अपहरण कर मांगा सात लाख, ढाई घंटे में बच्चा सकुशल बरामद
अपहरण कर मांगा सात लाख, ढाई घंटे में बच्चा सकुशल बरामद

कोरबा : घर के सामने बच्चों के साथ खेल रहे सराफ ा व्यापारी के छह साल के पुत्र को बाइक में सवार दो बदमाश अपहरण कर ले गए। करीब 15 मिनट बाद पिता के मोबाइल पर आरोपियों ने बच्चे का अपहरण कर लिए जाने की जानकारी दी, तब जाकर परिजनों को इसका पता चला। फिरौती की राशि को लेकर बाद में फो न लगाने की बात कह आरोपियों ने कॉल डिस्कनेक्ट कर दिया। थोडी ही देर में यह खबर शहर में आग की तरह फैल गई। व्यापारी के घर के पास शुभचिंतकों की भीड लग गई। इस तरह सरेआम बच्चे के अपहरण की घटना से हर कोई अवाक था। पुलिस के भी हाथ-पांव फूल गए। जांच-पडताल में पुलिस लगी ही थी कि दो घंटे 25 मिनट बाद बच्चे के बाल्को में मिलने की खबर आई। इसके साथ ही लोगों ने राहत की सांस ली।
शुक्रवार शाम करीब 6.30 बजे की यह घटना ट्रांसपोर्ट नगर की है। जल आवर्धन योजना की नई पानी टंकी के पास सराफ ा व्यवसायी रानुलाल वोरा व उनके तीन पुत्र महेंद्र, धर्मेंद्र व कोमल जैन परिवार समेत निवास करते हैं। गीतांजलि भवन में वर्धमान ज्वेलर्स व पावर हाउस रोड हीरानंद कॉम्प्लेक्स में महावीर ज्वेलर्स का संचालन यह परिवार करता है। परिवार में सबसे छोटे भाई एवं महावीर ज्वेलर्स के संचालक कोमल जैन के छह साल के पुत्र आगम का अपहरण किया गया था। घटना उस वक्त की है, जब आगम अपने हमउम्र दोस्त कान्हा के साथ घर के बाहर ही साइकिल चला रहा था। अचानक एक बाइक पर हेलमेट लगाए दो अज्ञात शख्स वहां पहुंचे और उन्हें धक्का देकर गिरा दिया। आरोपियों ने कान्हा को वहीं छोड दिया और आगम को बाइक के बीच में बैठाकर वहां से भाग निकले। कान्हा रोते हुए घर पहुंचा व आगम को उठा ले जाने की बात अपने माता-पिता को बताई। तब तक आगम के घर पर किसी को भी इस बात की खबर नहीं थी। घटना को अभी 15 मिनट ही गुजरे थे कि शाम ठीक 6.45 बजे बच्चे के पिता कोमल के मोबाइल पर आरोपियों का कॉल आया और फि रौती का इंतजाम करने को कहा। तब कहीं जाकर आगम का अपहरण होने की जानकारी जैन परिवार को हुई। इस घटना से आसपास हडकंप मच गया और एसपी मयंक श्रीवास्तव समेत पुलिस बल व परिवार के जान-पहचान के लोगों की भीड जुट गई। रात 8.15 बजे आगम को बाल्को के भदरापारा के पास सुरक्षित बरामद कर लिया गया। सरगर्मी से तलाश कर रहे पुलिस जवानों की नजर उस पर पड गई। पुलिस से बचने के लिए आरोपी बच्चे को छोडकर रफूचक्कर हो गए।
फि रौती की रकम बताने आरोपियों ने जिस नंबर से कॉल किया था, पुलिस ने उस नंबर को सर्विलांस पर रखते हुए लगातार ट्रेस किया जा रहा था। इसके साथ ही हर थाना-चौकी से दो-तीन जवानों की टीम गठित कर उन्हें पेट्रोलिंग पर लगा दिया गया था। रात करीब आठ से सवा आठ के बीच साइबर सेल को उस नंबर की लोकेशन बाल्को में ट्रेस हुई। भदरापारा क्षेत्र में अपहरणकर्ताओं की तलाश कर रहे दो आरक्षक भूपेंद्र पटेल व सुजीत पटेल की निगाह बाइक सवार व बच्चे पर पड गई। टीम ने बाइक रुकवाने की कोशिश कीए तो पकडे जाने के डर से अपहरणकर्ताओं ने बच्चों को वहीं उतार दिया और भाग निकले। पहले बच्चे को सुरक्षित बरामद किया गया फिर आरक्षकों ने अपहरणकर्ताओं का पीछा किया, पर वे भागने में कामयाब हो गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here