अयप्पा की पूजा करने नवंबर में पहुंच सकते हैं शाह

तिरुवनंतपुरम : भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं को सबरीमाला मंदिर में सभी उम्र की महिलाओं के प्रवेश के खिलाफ चल रहे प्रदर्शन को सपॉर्ट करने को कहा था। अब उन्होंने सबरीमाला जाकर पूजा करने की इच्छा जाहिर की है। वह 17 नवंबर से शुरू हो रहे वार्षिक धार्मिक समारोह में यहां आ सकते हैं। केरल बीजेपी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, बीजेपी अध्यक्ष ने सबरीमाला मंदिर में आने की इच्छा जाहिर की है लेकिन अभी इस पर फैसला नहीं हुआ है।
बीजेपी की एनडीए सरकार ने छह दिनों की रथयात्रा निकालने का ऐलान भी किया है। यह रथयात्रा कासरगोड से सबरीमाला तक 8 नवंबर से निकाली जाएगी। इस रथयात्रा को निकालने के पीछे उद्देश्य है कि सबरीमाला मंदिर की परंपरा और रिवाजों को बचाया जा सके।
बता दें कि अमित शाह के सबरीमाला मंदिर में आकर पूजा करने की बात उनके विवादित बयान के बाद सामने आई है। अमित शाह कन्नूर में पार्टी कार्यालय का उद्घाटन करने पहुंचे थे। तब उन्होंने न सिर्फ राज्य की लेफ्ट सरकार को घेरा बल्कि सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश से जुड़े सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर भी सवाल उठाए।
बीजेपी कार्यालय का उद्घाटन करते हुए अमित शाह ने कहा था कि कन्नूर हमारे लिए तीर्थस्थल जैसा है। अयप्पा के भक्तों पर दमन का कुचक्र चलाया जा रहा है, बीजेपी अयप्पा भक्तों के साथ चट्टान की तरह खड़ी रहेगी। केरल के अंदर मंदिरों की परंपरा को खत्म करने की कोशिश कम्युनिस्ट सरकार कर रही है। उन्होंने कहा था कि सरकार और कोर्ट को ऐसे आदेश देने चाहिए, जिनका पालन हो सके। उन्हें आदेश ऐसे नहीं देने चाहिए जो लोगों की आस्था का सम्मान न कर सकें। उन्होंने कहा था कि सरकार आग से खेल रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *