कांग्रेस के वोट बैंक पर जोगी गैंग का अटैक
कांग्रेस के वोट बैंक पर जोगी गैंग का अटैक

मानपुर: जिले का सुदूर आदिवासी बाहुल्य नक्सल प्रभावित क्षेत्र मोहला-मानपुर में यू तो चुनावों में कांग्रेस और भाजपा के बीच ही सीधा मुकाबला रहा है। लेकिन इस बार ये क्षेत्र त्रिकोणीय घमासान का गवाह बनेगा। विधानसभा क्षेत्र गठन के बाद से अब तक कांग्रेस के कब्जे में रहे इस सीट को हथियाने के लिए भाजपा ने महिला कार्ड खेलकर क्षेत्र के अंतिम छोर में रहने वाली जनपद सदस्य कंचनमाला भुआर्य को मैदान में उतारा है तो वहीँ कांग्रेस ने सीट बरकरार रखने के लिए पिछली बार की तरह इस बार भी मौजूदा विधायक की टिकिट काट कर नए चेहरे पर दांव खेला है। सहायक जिला आभकारी अधिकारी पद छोडक़र हाल ही में कांग्रेस का दामन थामकर यहाँ से मजबूत दावेदारी ठोकने वाले इन्द्र शाह मंडावी यहाँ से कांग्रेसी नैया को विधानसभा तक पहुचाने का जिम्मा अपने सर लिया है। अलावा इसके इस बार जनता कांग्रेस ने भी मोहला के युवा जनपद सदस्य संजीत ठाकुर को रण में उतारकर सीट को अपने नाम करने के लिए तगड़ी ताल ठोंक रखी है।

कांग्रेस का वोट बैंक खतरे में
बता दें ये इलाका कांग्रेस का गढ़ माना जाता है। कांग्रेस का किला यहां की आदिवासी वोट बैंक की बदौलत खड़ा है। क्षेत्रवासियों के बीच कांग्रेस और इंदिरा, नेहरू परिवार का क्रांतिकारी इतिहास सर चढ़ कर बोलता है। लिहाजा कांग्रेस से जो भी प्रत्यासी सामने आए ऐतिहासिक कंग्रेस के प्रति ग्रामीण जनता का मोह वोट में तब्दील होकर कांग्रेसी प्रत्यासी की झोली में जाता रहा है। लेकिन इस बार जनता कांग्रेस की दखल ने कांग्रेस के समीकरण को प्रभावित करेगा। बतौर मुख्यमन्त्री अजीत जोगी ने आदिवासी जनता के दिलों में जो जगह बनाई उसने कही न कही उन्हें भी क्षेत्रवासियों का आइडल बना दिया है। लोगों की अजित जोगी के प्रति चाहत जनता कांग्रेस का पक्ष कांग्रेस के परंपरागत वोटरों के सामने मजबूत करता है। ऐसे में जिन वोटों के बदौलत कांग्रेस इलाके में बढ़त हाशिल करती है उन वोटों का कांग्रेस और जनता कांग्रेस के बीच बटवारे का माहौल इलाके में देखा जा रहा है।

जनता कांग्रेस का परफॉमेंस तय करेगा भाजपा का फायदा
इस बात में कोई दोराय नही कि यहाँ चुनाव का परिणाम ग्रामीण आदिवासियों का वोट तय करता है। इन वोटों का बड़ा हिस्सा ही कांग्रेस का वोट बैंक है। अब यदि कांग्रेस के वोट बैंक का हिस्सा जनता कांग्रेस से बटता है तो कांग्रेस को जिताने वाले वोटों में कमी आना लाजमी है। ऐसे में इसका सीधा फायदा भाजपा को मिलेगा। भाजपा प्रत्यासी और संगठन के लिए ये एक सुनहरा मौका कि वर्षों से जिस सीट के लिए पार्टी तरस रही है वो सीट अपने नाम कर इलाके से कांग्रेस का किला ध्वस्त कर सकती है। भाजपा ने जनपद सदस्य महिला प्रत्यासी को मैदान में उतार कर सीट पर कब्जा जमाने की कोशिश शुरू कर दी है। लेकिन कांग्रेस और जनता कांग्रेस के बीच ग्रामीण वोट को हथियाने के द्वंद में भाजपा को कितना लाभ इस चुनाव में मिलेगा ये ट्रायबल और विलेजर्स इलाके में कांग्रेस और विशेष कर जनता कांग्रेस का परफॉमेंस तय करेगा।

कांग्रेसी किला ढहाना आसान नही, इन्द्र बने हैं रक्षक
वर्तमान शियासी हालात इस बात की ओर इशारा जरूर कर रहे हैं कि जनता कांग्रेस और कांग्रेस के बीच ग्रामीण वोट के घमासान का फायदा भाजपा को मिलेगा। लेकिन इस बात में भी कोई दोराय नही कि यहाँ दशकों से खड़ा कांग्रेस का किला ढहाना आसान नही है। कांग्रेस ने इन्द्र शाह मंडावी को बतौर प्रत्यासी अपने किले की रक्षा का जिम्मा सौंपा है। हालांकि टिकिट तय होने के पूर्व से ही इन्द्र शाह ने सघन जनसंपर्क शुरू कर दिया है लेकिन चुनाव अभी उस रंग में नही पहुंचा जिससे आम जनता का किसी पार्टी या प्रत्यासी के प्रति स्पस्ट रुझान सामने आए। कांग्रेस जब अपने वोटों की पहरेदारी के लिए परंपरागत वोटरों तक पहुंचेगी तो ये भी हो सकता है कि कांग्रेस के वोट बैंक पर लगाई जा रही सेंध को भरकर कांग्रेस सीट बरकरार रखने में इस बार भी सफल हो जाएगी।ऐसा हुआ तो इतिहास बदलने की भाजपा की ख्वाइस और जोगी के नाम के बदौलत सीट कब्जाने की जनता कांग्रेस की कोशिश धरी की धरी रह जाएगी।

भाजपा प्रत्यासी के क्षेत्र में आज जोगी की हुंकार
आज जनता कांग्रेस सुप्रीमो अजित जोगी मानपुर ब्लॉक के औंधी में पहुँचकर इलाके की शियासत में जबरदस्त दखल देने वाले हैं। औंधी भाजपा प्रत्यासी कंचनमाला का निवास क्षेत्र है। जिस जोगी के नाम को ग्रामीण वोटरों के बीच भुनाकर जनता कांग्रेस न केवल कांग्रेस भाजपा को तगड़ी टक्कर देने बल्कि सीट हथियाने के फिराक में है उनका स्वयं इलाके में आकर शियासी दांव खेलना उनकी पार्टी को कितना लाभ देगी ये आने वाला वक्त बताएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here