नई दिल्ली: दीपावली के एक दिन बाद दिल्ली में इस साल हवा की सबसे खराब गुणवत्ता दर्ज की गई. बड़े पैमाने पर हुई आतिशबाजी के कारण राष्ट्रीय राजधानी में प्रदूषण का स्तर ‘‘अत्यंत गंभीर और आपातकालीन’’ (सीवियर प्लस एमरजेंसी) श्रेणी में प्रवेश कर गया. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. इसी गंभीर स्थिति के मद्देनजर कड़े फैसले ले लिए गए हैं. आज रात से दिल्ली में बड़े ट्रकों की एंट्री बंद कर दी गई है. साथ ही मझोले ट्रकों को भी आने से रोकने के आदेश जारी कर दिए गए हैं. ये बैन 11 दिसंबर तक जारी रहेगा.

दिल्ली के हालात सुधरने तक इन ट्रकों को बॉर्डर पर ही खड़े रहना होगा. छोटे-बड़े सभी मिलाकर दिल्ली से रोजाना करीब 35 हजार ट्रक गुजरते हैं. दीपावली के तुरंत बाद प्रदूषण के हालात तेजी से बिगडऩे के पूर्वानुमान के आधार पर एहतियातन कदम उठाते हुए पर्यावरण प्रदूषण नियंत्रण एवं संरक्षण प्राधिकरण (ईपीसीए) ने मंगलवार की शाम इस आशय के निर्णय पर मुहर लगा दी.

उल्लेखनीय है कि उच्चतम न्यायालय के आदेश का घोर उल्लंघन करते हुए कई शहरों में लोगों ने कम से कम रात 12 बजे तक आतिशबाजी की, जबकि शीर्ष न्यायालय ने पटाखे जलाने के लिए रात 10 बजे तक की समयसीमा तय कर रखी थी.

नई दिल्ली में कई घंटे तक पटाखों की तेज आवाज सुनाई देती रही. मुंबई, कोलकाता, जयपुर एवं अन्य प्रमुख शहरों में भी न्यायालय के आदेश का उल्लंघन होते देखा गया. केंद्र द्वारा संचालित सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च (एसएएफएआर) के मुताबिक, पटाखों से पैदा हुए धुएं सहित अन्य कारणों से दिल्ली में समग्र वायु गुणवत्ता सूचकांक 574 तक चला गया जो ‘‘अत्यंत गंभीर और आपातकालीन’’ श्रेणी में आता है.

अधिकारियों ने बताया कि बड़े पैमाने पर हुई आतिशबाजी के कारण समूची राष्ट्रीय राजधानी में धुएं की मोटी परत पढ़ गई है और दृश्यता में काफी कमी आ गई है.शून्य और 50 के बीच एक्यूआई को ‘अच्छा’ माना जाता है, 51 और 100 के बीच इसे ‘संतोषजनक’, 101 और 200 के बीच ‘मध्यम’ माना जाता है, 201 और 300 के बीच ‘खराब’, 301 और 400 के बीच ‘काफी खराब’ और 401 और 500 के बीच इसे ‘अत्यंत गंभीर’ माना जाता है.

दिल्ली-एनसीआर में मयूर विहार एक्सटेंशन, लाजपत नगर, लुटियंस दिल्ली, आईपी एक्सटेंशन, द्वारका और नोएडा सेक्टर-78 ऐसे इलाकों में शामिल रहे जहां उच्चतम न्यायालय के आदेश का खुला उल्लंघन हुआ. पुलिस ने आदेश का उल्लंघन होने की बात कबूली और कहा है कि दोषियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी. उन्होंने कहा कि वे उल्लंघनों पर लगाम लगाने के लिए लगातार गश्त कर रहे हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here