बार-बार सर्दी-जुखाम होने की ये हैं असली वजहें, जानें
बार-बार सर्दी-जुखाम होने की ये हैं असली वजहें, जानें

मौसम बदलने पर बीमार पडऩा या फिर सर्दी-जुखाम हो जाना आम बात है लेकिन अगर आप उन लोगों में से शामिल हैं जिन्हें साल के 12 महीने में से 10 महीने सर्दी जुखाम रहता है और सिर्फ मौसम बदलने पर ही नहीं बल्कि आम दिनों में भी आप सर्दी-जुखाम की वजह से बीमार रहते हैं तो आपको परेशान होने की जरूरत नहीं क्योंकि आप अकेले नहीं है जो इस तरह की समस्या से दो-चार हो रहे हैं। हम आपको बता रहे हैं आखिर बार-बार बीमार पडऩे की वजह क्या है…
सामान्य सर्दी जुखाम बड़ी आसानी से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में ट्रांसफर हो जाता है। सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल ऐंड प्रिवेंशन की मानें तो कम से कम 20 सेकंड तक अच्छी तरह से हाथ धोना चाहिए। इसके अलावा खाना खाने से पहले, टॉइलट यूज करने के बाद, किसी बीमार व्यक्ति की देखभाल के बाद और खांसने या छींकने के बाद भी हाथों को अच्छी तरह से धोना चाहिए। अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो आपको भी सर्दी जुखाम होने का खतरा रहता है। इसमें कोई शक नहीं कि वैसे लोग जिनका इम्यून सिस्टम यानी रोगों से लडऩे की क्षमता कमजोर होती है वे जल्दी बीमार पड़ते हैं। इम्यूनिटी वीक होने की कई वजहें होती है जिसमें ऑटोइम्यून प्रॉब्लम, कुछ बीमारियां या फिर कई तरह की दवाईयां शामिल होती हैं जो शरीर को कमजोर बना देती हैं और रोगों से लडऩे की क्षमता खत्म हो जाती है। अगर आपका शरीर डिहाइड्रेटेड है यानी शरीर में पानी की कमी है तब भी आपका इम्यून सिस्टम यानी रोगों से लडऩे की क्षमता कमजोर हो जाती है जिससे आपके बीमार पडऩे का खतरा बढ़ जाता है। खुद को हाइड्रेटेड रखकर आप बीमार पडऩे के खतरे को कई गुना कम कर सकते हैं। शरीर में कीटाणुओं के पहुंचने का सबसे आसान तरीका है हमारे हाथों के जरिए… अगर आपके हाथों में कीटाणु हैं क्योंकि आपने अपने हाथ सही तरीके से नहीं धोएं हैं या फिर कोई गंदगी जगह छूने के बाद आपने हैंडवॉश नहीं किया है और उसके बाद आप अपना चेहरा या मुंह छूते हैं तो हाथों में लगे कीटाणु बड़ी आसानी से हमारे शरीर के अंदर प्रवेश कर जाते हैं। अगर आपको किसी चीज से ऐलर्जी है तो आपकी सर्दी जुखाम की समस्या और ज्यादा बढ़ जाएगी। इतना ही नहीं ऐलर्जी की वजह से सर्दी के लक्षण भी आए दिन दिखते और बढ़ते नजर आते हैं। अगर आपकी सर्दी जुखाम की समस्या 7 दिन के अंदर ठीक नहीं होती तो आपको डॉक्टर से संपर्क कर चेक करवाना चाहिए कि कहीं आपको किसी तरह की कोई ऐलर्जी तो नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here