भिलाई: 05 मार्च को दोपहर 2 बजे पावर हाउस भिलाई में जलेबी चौक स्थित कृष्णा कॉमशिर्यल कंपनी का कैशियर आशीष वर्मा अपने कार्यालय के कर्मचारी दुबेराम साहू के साथ कृष्णा कॉमर्शियल कंपनी में जमा राशि को जमा करने मोटर सायकल से यूनियन बैंक सुपेला जा रहे थे। जीई रोड स्थित रेमण्ड शो-रुम के पास एक मोटर सायकल में तीन अज्ञात व्यक्ति आशीष वर्मा को पीछे से पीठ में धक्का मारकर मोटर सायकल से गिरा दिए तथा पिस्टल से धमकाकर 03 राउण्ड फायर किए एवं आशीष वर्मा के पास रखे बैग लूट कर भाग गए। उक्त बैग में 09 लाख 19 हजार रुपये एवं चेक बुक तथा अन्य कागजात थे। थाना छावनी में धारा 394 भादवि, 25-27 आम्र्स एक्ट के अंतर्गत अपराध पंजीबद्ध किया गया।

पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी के द्वारा आरोपियों को पकडऩे हेतु व्यापक दिशा निर्देश दिए गए। घटना की सूचना मिलते ही हिमांशु गुप्ता पुलिस महानिरीक्षक दुर्ग रेंज, रतनलाल डांगी, उप पुलिस महानिरीक्षक, प्रखर पाण्डेय पुलिस अधीक्षक दुर्ग एवं रोहित कुमार झा, अति. पुलिस अधीक्षक शहर दुर्ग घटना स्थल पहुंचे। अज्ञात आरोपियों को पकडऩे हेतु तत्काल शहर में नाकेबंदी कराई गई। घटना स्थल में आरोपियों के द्वारा फायर किए गए खाली खोखे का निरीक्षण किया गया। घटना की गंभीरता को देखते हुए उपपुलिस अधीक्षक क्राइम प्रवीरचंद्र तिवारी, विश्वास चंद्राकर, नगर पुलिस अधीक्षक छावनी अजीत यादव, नगर पुलिस अधीक्षक भिलाई नगर राजीव शर्मा, पुलिस अनुविभागीय अधिकारी पाटन, थाना प्रभारी छावनी, सुपेला, नेवई, वैशालीनगर एवं अन्य 50 पुलिस कर्मियों की टीम बनाकर विभिन्न बिंदुओं की जांच प्रारंभ की गई। पुलिस महानिरीक्षक दुर्ग रेंज द्वारा आरोपियों को पकडऩे हेतु 50 हजार रूपये का इनाम देने की घोषणा की गई। छावनी, खुर्सीपार, सुपेला, जामुल, वैशालीनगर, स्मृतिनगर थाना क्षेत्रों में लगे सीसीटीवी कैमरों के रिकार्ड खंगाले गए। पूर्व में थाना दुर्ग के अंतर्गत माह अगस्त 2018 में ईरानी डेरा में हुए 6 लाख की लूट एवं वर्ष 2015 में कोहका के पास पेट्रोल पंप में 4 लाख की लूट की घटनाओं एवं अन्य जिलों की इस प्रकार की घटनाओं के प्रकरणों की केस डायरियों का सूक्ष्मता से अध्ययन कर अज्ञात आरोपियों की पतासाजी आरंभ कीे गई। इस दौरान आरोपियों के द्वारा प्रयुक्त किए गए दो पहिया वाहन के संबंध में मुखबीर से महत्वपूर्ण जानकारी मिली। उक्त दुपहिया वाहन को घटना दिनांक के दिन शहर में लगे विभिन्न सीसीटीवी कैमरा में भी देखा गया। सीसीटीवी कैमरा में प्राप्त फुटेज एवं टेक्रीकल टीम के द्वारा उपलब्ध कराए गए सूत्र के आधार पर पुलिस की टीम झारखण्ड, बिहार, उत्तरप्रदेश, महराष्ट्र एवं उडि़सा की तरफ रवाना की गई।


पुलिस के अधिकारियों एवं कर्मचारियों के सतत परिश्रम एवं सटीक पर्यवेक्षण के फलस्वरुप घटना से जुडे दो व्यक्तियों को भिलाई से हिरासत में लिया जाकर पूछताछ की गई। आरोपी देवी प्रसाद बसोर एवं मनीष बसोर की उक्त घटना में उनकी संलिप्तता पाई गई तथा उनसे घटना में प्रयुक्त दुपहिया वाहन, एक पिस्टल, 04 जिंदा कारतूस, 01 देशी कट्टा, 05 जिंदा कारतूस तथा लूटे गए राशि में से 1 लाख, 10 हजार रुपये नगद राशि जप्त किया गया। उक्त आरोपियों से पूछताछ करने पर उक्त घटना में अन्य राज्यों के और भी व्यक्तियों की संलग्नता उजागर हुई जिसके फलस्वरुप उत्तरप्रदेश से 01 अन्य आरोपी संजय उर्फ महेश वर्मा को भी हिरासत में लिया गया। जिसके द्वारा अपने अन्य साथियों के साथ सन् 2015 में भिलाई, कोहका स्थित पेट्रोल पंप में लूट करना एवं माह अगस्त 2018 में ईरानी डेरा, दुर्ग के समीप 5 लाख की लूट घटित करने के संबंध में जानकारी दी गई। इसके अतिरिक्त एवं इनके साथियों के द्वारा रायपुर के विभिन्न स्थानों पर लूट की घटना कारित करने की जानकारी प्राप्त हुई है, जिसके फलस्वरुप दुर्ग एवं रायपुर के लगभग दर्जन भर लूट के प्रकरणों का खुलासा होने की प्रबल संभावना है। वर्तमान मेें तीन आरोपियों को पुलिस हिरासत में लेकर अन्य अपराधों के संबंध पूछताछ की जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here