स्मॉग, धुंध...दिल्ली-एनसीआर में हवा की हालत होने लगी खराब
स्मॉग, धुंध...दिल्ली-एनसीआर में हवा की हालत होने लगी खराब

नई दिल्ली :  दिल्ली-एनसीआर में जहरीली हवा पर सेंट्रल पलूशन कंट्रोल बोर्ड (सीपीसीबी) की 10 दिन की चेतावनी का आज पहला दिन है। गुरुवार सुबह दिल्ली-एनसीआर में हवा की सेहत बिगड़ी हुई नजर भी आई। राजधानी स्मॉग और धुंध की चादर में लिपटी थी। जहरीली हवा से बचने के लिए कई लोग मास्क लगाकर घरों से बाहर निकले। हालांकि सरकारी प्रयासों के चलते कुछ इलाकों में प्रदूषण कुछ कम हुआ है, इसके बावजूद स्तर अभी भी गंभीर बना हुआ है।

बुधवार को आनंद विहार में सुबह 9 बजे पीएम 10 का स्तर 719 था, जो गुरुवार को कुछ कम होकर 683 पर आ गया। वैसे कुछ इलाकों में इसका स्तर बढ़ा है। बुधवार को मुंडका में पीएम 10 का स्तर 645 था जो गुरुवार को बढक़र 700 पर पहुंच गया है। वैसे ओवरऑल एयर च्ॉलिटी स्टेटस में कुछ इजाफा नजर आ रहा है। बुधवार को वह 372 था, गुरुवार को 392 हो गया।

10 दिन सबसे जहरीली रहेगी हवा?
बोर्ड ने चेतावनी देते हुए बताया था कि राजधानी दिल्ली में दिवाली के पहले और उसके बाद हवा काफी जहरीली हो सकती है। सेंट्रल पलूशन कंट्रोल बोर्ड (सीपीसीबी)के नेतृत्व वाले टास्क फोर्स ने कहा था कि राजधानी में हवा की धीमी गति के कारण प्रदूषण बढ़ सकता है। ऐसे में नवंबर के पहले 10 दिनों तक यहां के निवासियों को वॉकिंग और जॉगिंग से दूर रहना चाहिए। बोर्ड ने पलूशन को देखते हुए 1 से 10 नवंबर तक दिल्ली-एनसीआर में सभी तरह की कंस्ट्रक्शन ऐक्टिविटी पर पहले ही रोक लगा दी है। 4 से 10 नवंबर तक कोल और बायोगेस से चलने वाली सभी इंडस्ट्री को बंद रखने का सुझाव भी दिया गया है। 1 से 10 नवंबर तक प्रदूषण फैला रही गाडिय़ों पर कड़ी कारवाई करने के निर्देश दिए गए हैं।

लखनऊ में भी हवा की हालत खराब
दिल्ली-एनसीआर ही नहीं देश के दूसरे शहरों में भी हवा की सेहत ज्यादा ठीक नहीं है। आईआईटीआर की ओर से बुधवार को जारी पोस्ट मॉनसून रिपोर्ट के मुताबिक लखनऊ में इंदिरानगर, आलमबाग और चारबाग इलाके में रहने वाले लोग सबसे ज्यादा प्रदूषित हवा में सांस ले रहे हैं। आईआईटीआर की टीम ने सितंबर-अक्टूबर महीने में पूरे शहर के नौ स्टेशनों पर हवा में मौजूद प्रदूषक तत्वों का आकलन किया। इस दौरान पीएम-10 और पीएम-2.5 के लिहाज से रिहायशी इलाकों में सबसे प्रदूषित हवा इंदिरानगर की पाई गई। पिछले साल भी इंदिरानगर सबसे प्रदूषित रिहायशी इलाका था। व्यावसायिक इलाकों में पीएम 10 के लिहाज से आलमबाग और पीएम 2.5 के लिहाज से चारबाग की आबोहवा सबसे ज्यादा प्रदूषित है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here