सरपंच को धमका कर रूपए ऐंठने वाले नकली नक्सलियों को 14 साल का कारावास

जगदलपुर : बस्तर जिले के नेतानार में दो वर्ष पूर्व नक्सली के नाम से सरपंच को धमकाने पर न्यायालय ने ग्रामीण को 14 वर्ष का कठोर कारावास एवं 4 धाराओं में 5 हजार रूपए अर्थदंड की सजा सुनाई। इस मामले में शासन की ओर से अपर लोक अभियोजक श्रीमती सीमा गोलछा ने पैरवी की । न्यायालयीन सूूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार नेतानार के सरपंच सहदेव नाग 4 जनवरी 2016 की दोपहर 3 बजे सचिव मुरारी शर्मा के साथ पंचायत भवन में वृद्धापेंशन बांट रहा था। उसी समय दो मोटर सायकल में सवार लेण्ड्रा निवासी 42 वर्षीय यज्ञदत कश्यप 4 लोगों के साथ वहां पहुंचे। उन्होंने सरपंच श्री नाग को पंचायत भवन से बुलाकर उप सरपंच के घर ले गए और कहा कि तुम नक्सली मीटिंग में आते हो कि नहीं। बड़ी नक्सली नेताओं से बात करना है, साथ ही नक्सली पॉर्टी का काम करना है। लोगों ने यह भी कहा कि 60 हजार रूपए नक्सली कमांडर शंकर को देना है, नहीं देने पर जान से मार देंगे। जाते समय चार लोगों ने एक मोटर सायकल सीजी 17 केएच 8645 में सवार होकर गए और शहीद पार्क में रूपए लेकर आने को कहा। सरपंच ने इसकी सूचना पुलिस अधीक्षक को दी, एसपी के निर्देश पर पुलिस ने उक्त मोटर सायकल एवं मोबाईल जप्त किया। आरोपी के विरूद्ध चार धाराओं पर कार्रवाई की। इस मामले में विशेष न्यायाधीश डीएन भगत ने साक्ष्यों एवं गवाहों के आधर पर अभियुक्त को धारा 387 में 7 वर्ष का कठोर कारावास की सजा एवं 100 रूपए का अर्थदंड, धारा 38 में 10 वर्ष का कठोर कारावास की सजा, एक हजार रूपए का अर्थदंड, धारा 39 में 10 वर्ष का कठोर कारावास की सजा, 1000 रूपए अर्थदंड एवं धारा 40 में 14 वर्ष की कठोर कारावास की सजा, 2 हजार रूपए का अर्थदंड सुनाया। अर्थदंड का भुगतान नहीं होने पर सभी धाराओं में एक माह की अतिरिक्त कारावास सजा भुगतना होगा। साथ ही कहा कि सभी सजाएं एक साथ रहेंगी।

चोरों ने सांसद के घर के बाहर खोद डाली सुरंग

नई दिल्ली : राजधानी दिल्ली में अब चोरों के हौसले इतने बुलंद हो चले हैं कि वीवीआईपी इलाके भी सुरक्षित नहीं बचे हैं। लुटियंस दिल्ली के इलाके में जमीन के नीचे दबी एमटीएनएल की महंगी केबल को चुराने के लिए चोरों का एक गिरोह सारी हदें पार कर गया। इस गिरोह के सदस्यों ने फिरोजशाह रोड पर स्थित एक सांसद की कोठी की बाउंड्री वॉल के ठीक नीचे गहरी सुरंग खोद डाली, ताकि उसमें से केबल को निकालकर चुरा ले जाएं, लेकिन उनकी किस्मत दगा दे गई।
दरम्यानी रात को पेट्रोलिंग पर निकले पुलिसवालों ने जब कोठी की बाउंड्री वॉल के पास हरकत होते देखी, तो वे अलर्ट हो गए। पुलिस को देखकर दो चोर भागने लगे। उन्होंने जब उन्हें पीछा करके पकड़ा, तो पता चला कि सांसद की कोठी के बाहर चार गहरे गड्ढे खोदकर 7-8 चोर उनमें छुपे हुए थे। इन लोगों को पकडऩे के लिए एक्स्ट्रा फोर्स बुलानी पड़ी। पुलिस को सामने देख चोर इधर-उधर भागने लगे। पुलिसवाले भी उनके पीछे दौड़ पड़े और काफी मशक्कत के बाद 10 लोगों को मौके से पकडऩे में कामयाब रहे, जबकि एक अन्य चोर बाद में किसी और जगह से पकड़ा गया। गिरोह का सरगना और इसके कुछ अन्य सदस्य अब भी फरार हैं।
राजधानी के डीसीपी मधुर वर्मा ने बताया कि बुधवार रात 2 बजे के बीच बाराखंभा रोड थाने की पुलिस की रात्रि गश्ती टीम ने इस गिरोह को पकड़ा। ये लोग उस वक्त विंडसर प्लेस के गोल चक्कर के पास फिरोजशाह रोड पर स्थित कोठी नंबर-18 की बाउंड्री वॉल के बाहर सुरंग खोदकर केबल चुराने की कोशिश कर रहे थे। यह कोठी बिहार के अररिया से लोकसभा के सांसद सरफराज आलम की है। घटना के वक्त वहां कोई गार्ड तैनात नहीं था। कोठी के गेट के ठीक बगल में एक पुराना पुलिस बूथ भी बना हुआ है, जो अब बंद पड़ा रहता है।
गिरफ्तार किए गए 11 आरोपियों की पहचान मनोज कुमार, अजय कुमार, प्रदीप, सत्य प्रकाश, मंगलू, किशन पाल, अरविंद, आलम मंसूरी, राज कुमार, राहुल कुमार ओर अनिल के रूप में हुई। ये लोग बदरपुर, सरिता विहार, मदनपुर खादर जैसे साउथ-ईस्ट दिल्ली के अलग-अलग इलाकों के रहने वाले हैं। इनकी उम्र 19 से लेकर 35 साल के बीच है। बाराखंभा रोड थाने में इन सभी के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है।
पहले भी पकड़े गए थे चोरी करते
पुलिस के मुताबिक इस गिरोह का सरगना अखलाक नाम का एक कबाड़ी है, जो बदरपुर की तरफ ही कहीं रहता है। पुलिस उसे भी तलाश रही है। पकड़े गए लोगों में दो ऑटोवाले भी हैं। गिरोह के सदस्य इन्हीं के ऑटो में आकर वारदात करते थे। इन लोगों ने केबल चुराने के लिए सुरंग तो खोद ली थी और दोनों तरफ से तार भी काट दिए थे, लेकिन इससे पहले कि ये लोग रस्से से खींचकर केबल को बाहर निकाल पाते, पुलिस ने इन्हें धर दबोचा। छानबीन में पुलिस को पता चला है कि इस गिरोह के कुछ लोग इसी साल अगस्त में भी इसी इलाके में केबल चोरी करते पकड़े गए थे।

शीतकालीन सत्र में आ सकता है आधार अधिनियम में संशोधन का बिल

नई दिल्ली :  बैंक, मोबाइल फोन और स्कूल एडमीशन आदि में आधार की अनिवार्यता खत्म करने वाले सुप्रीम कोर्ट के फैसले को कानूनी समर्थन देने के लिए सरकार आधार कानून में संशोधन करने जा रही है। सरकार ने आधार अधिनियम में संशोधन के लिए मसौदा तैयार कर लिया है। उम्मीद है इस संशोधन विधेयक के मसौदे को सरकार संसद के शीतकालीन सत्र में पेश करेगी।
इसी साल 26 सितंबर को आधार की अनिवार्यता के मसले पर ऐतिहासिक निर्णय देते हुए सुप्रीम कोर्ट ने सरकारी से मिलने वाली विभिन्न सब्सिडी और छात्रवृत्तियों को छोडक़र बाकी चीजों के लिए आधार की अनिवार्यता समाप्त कर दी थी। अदालत ने अपने फैसले में कहा था कि लोग चाहें तो बैंक खातों और मोबाइल से जुड़े अपनी आधार संख्या को डीलिंक भी कर सकते हैं। लेकिन उसके बाद यह सवाल उठने लगा था कि इसे कानूनी मान्यता किस प्रकार मिलेगी। सरकार के लिए आधार कानून में संशोधन करना इसलिए भी आवश्यक है क्योंकि अभी भी आधार के इस्तेमाल को लेकर लोगों में भ्रम बना हुआ है।
हालांकि फैसले के बाद न केवल वित्त मंत्री अरुण जेटली बल्कि कानून मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने कहा भी था कि बैंक या मोबाइल कंपनियों पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का पालन सुनिश्चित कराने के लिए सरकार कानून में बदलाव भी करेगी। आधार जारी करने वाली संस्था यूआइएडीआइ के सूत्र बताते हैं कि इसी दिशा में आगे बढ़ते हुए सरकार आधार अधिनियम में संशोधन करने जा रही है। बताया जा रहा है कि जिन सेवाओं के लिए आधार अनिवार्य नहीं होगा, सरकार कानून में इस बात का स्पष्ट प्रावधान करेगी।
सूत्रों के मुताबिक संशोधन विधेयक का मसौदा सूचना प्रौद्योगिकी ने तैयार कर लिया है और उसे स्वीकृति के लिए कानून मंत्रालय भेजा है। कानून मंत्रालय की स्वीकृति मिलने के बाद आइटी मंत्रालय संशोधन प्रस्ताव को कैबिनेट की मंजूरी के लिए प्रस्तुत करेगा। हालांकि सूत्र बताते हैं कि यह सारी प्रक्रिया शीतकालीन सत्र शुरू होने से पहले पूरी हो जाएगी ताकि शीतकालीन सत्र में इसे पारित कराया जा सके। यह इसलिए भी जरूरी है क्योंकि मौजूदा सरकार के लिए संसद का यही एक पूर्णकालिक सत्र बचा है। फरवरी में अंतरिम बजट प्रस्तुत करने के लिए एक लघु सत्र बुलाया जाएगा। उसके बाद मार्च-अप्रैल 2019 में आम चुनाव की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। ऐसे में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुरूप नियम बनाने के लिए यह आवश्यक है कि आधार अधिनियम में संशोधन संसद के शीतकालीन सत्र में ही करा लिया जाए।

रविवार से और होगी राजधानी की हवा जहरीली

नई दिल्ली : राजधानी दिल्ली से प्रदूषण और स्मॉग की छाया का संकट टला नहीं है। दो दिसंबर को एक बार फिर दिल्ली का दम घुट सकता है। सफर के अलर्ट के अनुसार 2 दिसंबर को बादल छाएंगे, तापक्रम भी कम रहेगा। इसी वजह से दिल्ली-एनसीआर में इनवर्जन लेयर बनेगी जो प्रदूषक तत्वों को जमने में मदद करेगी। यह स्थिति कितने दिनों तक रहेगी इसका आकलन फिलहाल नहीं दिया गया है।
बीते तीन दिनों से दिल्ली में स्मॉग की परत दोबारा नजर आ रही है, लेकिन यह हल्की है। लेकिन प्रदूषण का पूर्वानुमान करने वाली विभिन्न एजेंसियां दावा कर रही हैं कि स्मॉग की परत मोटी होने की संभावनाएं काफी अधिक हैं। बुधवार को प्रदूषण के स्तर में काफी इजाफा हुआ। दिल्ली का एयर इंडेक्स 358 दर्ज हुआ, जबकि एनसीआर के दो शहर खतरनाक श्रेणी में रहे। इनमें भिवाड़ी और गाजियाबाद में एयर इंडेक्स 404 रहा। वहीं फरीदाबाद का एयर इंडेक्स 338, ग्रेटर नोएडा का 375, गुरुग्राम का 216 और नोएडा का 366 रहा। जबकि बीते मंगलवार को दिल्ली का एयर इंडेक्स महज 316 था।
सफर के अनुसार, अगले दो दिनों तक एयर इंडेक्स में थोड़ा बहुत इजाफा होगा, लेकिन लोगों को इतनी ही परेशानियां होती रहेंगी। धूप हल्की होने लगी है, लेकिन प्रदूषक तत्वों की वजह से सूर्य की गर्मी नीचली स्तह पर ट्रेप हो रही है, जिसकी वजह से तापमान भी गिर नहीं रहा है। लेकिन दो दिनों बाद प्रदूषण काफी अधिक बढ़ सकता है।
स्काईमेट के प्रमुख धातुकार्मिक महेश पलावत के अनुसार, एक दिसंबर तक उत्तर पश्चिमी हवाएं 10 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलती रहेंगी। लेकिन इसके बाद दो दिसंबर से एक नया वेस्टर्न डिस्टरबेंस सक्रिय है, जिसकी वजह से हवाओं के रुख में बदलाव आएगा। दो दिसंबर से हवाएं दक्षिणी पूर्व या दक्षिणी पश्चिमी से आएंगी।

किसानों ने संसद की ओर शुरु की पदयात्रा, सुरक्षा में हजारों पुलिसकर्मी तैनात

नई दिल्ली :  राजधानी के रामलीला मैदान में गुरुवार से डेरा डाले देशभर से आए हजारों किसानों ने शुक्रवार को भारी-भरकम सुरक्षा के बीच संसद की ओर पदयात्रा शुरू कर दिया है। कर्ज राहत और उपज का उचित मूल्य देने समेत उनकी कई मांगें हैं। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मार्च के मार्ग पर साढ़े तीन हजार से अधिक पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है। उन्होंने बताया कि मध्य दिल्ली और नई दिल्ली पुलिस जिलों में मार्च को देखते हुए विशेष बंदोबस्त किए गए हैं। उप-निरीक्षक रैंक तक के लगभग 850 पुलिसकर्मियों को मध्य जिले में तैनात किया गया है। उनके अलावा 12 पुलिस कंपनियां होंगी जिनमें से दो कंपनियां महिला पुलिसकर्मियों की होंगी। प्रत्येक कंपनी में 75-80 पुलिसकर्मी हैं। नयी दिल्ली जिले में उप-निरीक्षक रैंक तक के लगभग 346 पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है। अन्य जिलों के 600 पुलिसकर्मी भी उनकी सहायता के लिए मौजूद रहेंगे। निरीक्षक से लेकर अतिरिक्त डीसीपी रैंक तक के 71 अधिकारियों के साथ-साथ 9 पुलिस कंपनियां भी मौजूद हैं। आंध्र प्रदेश, गुजरात, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल और उत्तर प्रदेश समेत देशभर से आए किसान गुरुवार को रामलीला मैदान में इक_े हुए थे।

अक्षय कुमार की अगली फिल्म का डायरेक्शन करेंगे रोहित शेट्टी?

इस समय बॉलिवुड डायरेक्टर रोहित शेट्टी अपनी आने वाली फिल्म सिंबा के पोस्ट प्रॉडक्शन में बिजी हैं। इस फिल्म में रणवीर सिंह और सारा अली खान लीड रोल में दिखाई देंगे। फिल्म में रणवीर सिंह एक पुलिसवाले की भूमिका में हैं जिसका नाम संग्राम भालेराव है।
अब ऐसा सुनने में आ रहा है कि सिंबा की रिलीज से पहले ही रोहित शेट्टी ने एक नया प्रॉजेक्ट अपने हाथ में ले लिया है। बताया जा रहा है कि रोहित शेट्टी बॉलिवुड के खिलाड़ी अक्षय कुमार की अगली फिल्म का डायरेक्शन करने जा रहे हैं। कहा जा रहा है कि इस फिल्म की शूटिंग अगले साल मई या जून में शुरू हो सकती है।
खबरों की मानें तो इस फिल्म के लिए अक्षय कुमार ने भी हां कह दी है और अपनी डेट्स दे दी हैं। पहले अक्षय ने यह डेट्स हेरा फेरी के सीच्ल के लिए दी थीं लेकिन माना जा रहा है कि यह फिल्म कुछ समय के लिए टाल दी गई है। ख़ैर, यह पहला मौका होगा जबकि अक्षय और रोहित एक साथ काम कर रहे होंगे और इन दोनों का काम एक साथ देखना दिलचस्प होगा।
इस बीच अक्षय कुमार भी अपनी अगली फिल्म 2.0 के रिलीज की तैयारी कर रहे हैं। इस फिल्म में लीड रोल में सुपरस्टार रजनीकांत एक बार फिर रोबॉट चिट्टी के रोल में दिखाई देंगे। दूसरी तरफ सिंबा भी इस साल 28 दिसंबर को थिअटर्स में रिलीज होने जा रही है।

कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेता दिल्ली पहुंचे

रायपुर : छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कई वरिष्ठ नेता आज नई दिल्ली प्रवास पर है। सभी नेता वहां पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी की बैठक में शामिल होंगे। बैठक में छत्तीसगढ़ प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया, प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल, नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव, चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष डा. चरणदास महंत सहित अन्य वरिष्ठ नेता शामिल होंगे।
पार्टी सूत्रों के अनुसार राहुल गांधी दोपहर में पार्टी कार्यालय में यह बैठक लेंगे। बैठक में श्री पुनिया विधानसभा चुनाव में प्रत्याशियों के प्रदर्शन की समीक्षा रिपोर्ट पेश करेंगे। कांग्रेस यह मानकर चल रही है कि इस बार उनकी सरकार बन रही है। ऐसे में बैठक में संगठन व सरकार बनाने की तैयारियों को लेकर भी चर्चा की जा सकती है। अभी चुनाव के परिणाम आए नहीं हैं। 11 नवंबर को मतगणना में परिणाम अगर कांग्रेस के पक्ष में नहीं आते तो ऐसी स्थिति में पार्टी क्या एक्शन लेंगी, इसकी पूरी योजना तैयार की जाएगी।

मतदान के दौरान ईवीएम की गड़बड़ी पर भाजपा ने क्यों साधा था मौन : कांग्रेस

रायपुर: राज्य में विधानसभा चुनाव संपन्न होने के बाद अब चुनाव परिणाम का बेसब्री से इंतजार हो रहा है। कांग्रेस जहां ईवीएम में गड़बड़ी को लेकर लगातार शिकायत दर्ज कराते आ रहा है तो वहीं इस मामले में भाजपा मौन है। इस पर कांग्रेस ने यहां तक कह दिया कि भाजपा को लोकतांत्रिक व्यवस्था पर भरोसा नहीं है, भाजपा को किसी भी कीमत पर सत्ता हासिल करना है, इसीलिए राज्य में सैकड़ों ईवीएम के खराब होने के बाद भी भाजपा ने इस पर आज तक कोई आपत्ति दर्ज नहीं कराई।
भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष धरमलाल कौशिक के बयान पर पलटवार करते हुए कांग्रेस संचार विभागाध्यक्ष ने कहा कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और प्रदेश के मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ में मिशन-65 को लेकर बड़े-बड़े दावे किए थे। विधानसभा चुनाव के संपन्न होने के बाद अब भाजपा के मिशन-65 पर ग्रहण लग गया है। यही वजह है कि भाजपा के प्रदेश प्रमुख 51 सीट आने और चौथी बार सत्ता में काबिज होने की बात कह रहे हैं। कांग्रेस संचार विभागध्यक्ष ने आरोप लगाते हुए सीधे कह दिया कि भाजपा को लोकतांत्रिक व्यवस्था पर भरोसा नहीं है, इसीलिए भाजपा किसी भी तरह से सत्ता हासिल करना चाहती है। कांग्रेस की ओर से मतदान के समय ईवीएम में आई गड़बड़ी को लेकर राज्य निर्वाचन आयोग में लगातार शिकायत दर्ज कराई। राजधानी रायपुर सहित आसपास के विधानसभा क्षेत्रों के अलावा राज्य भर से इसी तरह ईवीएम के खराब होने की लगातार शिकायतें आती रही। इसके बाद बस्तर के एक विधानसभा क्षेत्र के अलावा कई अन्य मतदान केन्द्रों में मतदान की संख्या, मतदान के प्रतिशत, पीठासीन अधिकारी की रिपोर्ट और जिला निर्वाचन के साथ ही राज्य निर्वाचन आयोग से प्राप्त रिपोर्ट में भारी अंतर पाया गया। कांग्रेस ने तत्काल इसकी शिकायत फिर से आयोग में दर्ज कराई। पीठासीन और जिला निर्वाचन अधिकारी की मतदान प्रतिशत और मतदान संख्या को लेकर मिली रिपोर्ट में सैकड़ों मतों का अंतर पाया गया। इस भारी लापरवाही और गड़बड़ी को लेकर कांग्रेस लगातार आयोग से शिकायत करती रही। लेकिन भाजपा ने इतनी बड़ी चूक के बाद भी कोई प्रतिक्रिया नहीं जताई, इससे समझा जा सकता है कि भाजपा को किसी भी कीमत पर सत्ता चाहिए। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री मिशन-65 का नारा देते रहे और अब चुनाव संपन्न होने के बाद प्रदेश भाजपा के मुखिया 51 सीट की बात कह रहे हैं। इससे समझा जा सकता है कि भाजपा का चौथी बार सत्ता में आने का सपना टूट चुका है।

एनआईटी में दीक्षांत समारोह 1 दिसंबर को

रायपुर : एनआईटी में 1 दिसंबर को दीक्षांत समारोह आयोजित किया जाएगा। एनआईटी का यह 9वां दीक्षांत समारोह है। जिसमें 1138 छात्र-छात्राओं को ग्रेजुएट, पोस्ट ग्रेजुएट एवं पीएचडी की डिग्रिया दी जाएगी। समारोह के मुख्य अतिथि राष्ट्रीय तकनीकी संस्थान दिल्ली के अध्यक्ष पद्मीश्री प्रो. संजय गोविंद धांडे होंगे तथा अध्यक्षता निदेशक एवं कार्यवाहक अध्यक्ष डा. एएम रवाणी करेंगे।
दीक्षांत समारोह में इस बार कुल 1138 छात्र-छात्राओं को डिग्री दी जाएगी। जिनमें 888 ग्रेजुएट, 191 पोस्ट ग्रेजुएट एवं 59 पीएचडी डिग्रीधारी है। इसके अलावा हर विभाग के प्रथम आने वाले विद्यार्थियों को मेडल देकर सम्मानित किया जाएगा। डिग्री प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों में छात्र कुर्ता-पायजामा व छात्राएं साड़ी वेशभूषा में नजर आएंगी। समारोह का शुभारंभ शाम 6 बजे से सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ होगा।

इंस्टाग्राम पर छाईं दिव्यांका त्रिपाठी, 90 लाख हुए फॉलोअर्स

टीवी इंडस्ट्री का जाना-पहचाना नाम दिव्यांका त्रिपाठी ने सोशल मीडिया पर एक नया मुकाम छू लिया है। हाल में इंस्टाग्राम पर उनके 90 लाख फॉलोअर्स पूरे हो गए हैं। इंस्टाग्राम पर पिछले कुल 4 महीनों में उनके 10 लाख चाहनेवाले बढ़ गए हैं। ये हैं मोहब्बतें की इशिता के इसी साल जुलाई में ही उनके 8 मिलियन फॉलोअर्स पूरे हुए थे।
टीवी की सबसे मशहूर सिलेब्रिटीज में से एक दिव्यांका त्रिपाठी ने इंस्टाग्राम पर अबतक कुल 2 हजार के करीब फोटोज-विडियोज पोस्ट किए हैं। इनमें लोगों ने उनका अलग-अलग अंदाज देखा है। दिव्यांका का पूरा नाम दिव्यांका त्रिपाठी दहिया है। उन्होंने 2016 में टीवी ऐक्टर विवेक दहिया से शादी की थी।
दिव्यांका त्रिपाठी के बारे में
दिव्यांका का जन्म 14 दिसम्बर 1984 को मध्य प्रदेश के भोपाल में हुआ था। शुरुआती पढ़ाई भी उन्होंने भोपाल से ही की थी। भोपाल के आकाशवाणी से उन्होंने अपने करियर की शुरुआत की थी।
बनूं मैं तेरी दुल्हन सीरियल से दिव्यांका को पहचान मिली थी। शो के लिए तब उन्हें ड्रामा कैटिगरी में बेस्ट ऐक्ट्रेस का इंडियन टेलिविजन अकैडमी अवॉर्ड भी मिला था। इसके बाद ये हैं मोहब्बतें में इशिता के किरदार के लिए भी उन्हें बेस्ट ऐक्ट्रेस का इंडियन टेली अवॉर्ड मिल चुका है। इसके अलावा डांस में माहिर दिव्यांका रिऐलिटी शो नच बलिए में भी विनर रही हैं।