एशिया में प्रमुख बीज केंद्र के रूप में उभर रहा भारत: रिपोर्ट

एम्स्टर्डम : भारत, एशिया में प्रमुख बीज केंद्र के रूप में उभर कर सामने आया है। भारत की चार बीज कंपनियां पहली बार एक्सेस टू सीड्स इंडेक्स फॉर साउथ एंड साउथईस्ट एशिया के शीर्ष दस में शामिल हुई हैं।
इस सूची में सबसे शीर्ष पर थाईलैंड की ईस्ट-वेस्ट सीड है। बीज उद्योग की चार प्रमुख भारतीय कंपनियों में एडवांटा, एक्सेन हाईवेज, नामधारी सीड्स व नूजीवीदु सीड्स शामिल हैं। इन कंपनियों ने भारत के छोटी जोत वाले किसानों की उत्पादकता बढ़ाने का काम किया है।
वर्ल्ड बेंचमार्किं ग एलायंस (डब्ल्यूबीए) द्वारा सोमवार को प्रकाशित एक्सेस टू सीड्स फॉर साउथ एंड साउथईस्ट एशिया अध्ययन में कहा गया कि शीर्ष दस कंपनियों की सूची में वैश्विक रूप से सक्रिय पांच अन्य कंपनियां क्षेत्र के बाहर से हैं। एक्सेस टू सीड्स इंडेक्स के कार्यकारी निदेशक इडो वेरहागेन ने एक बयान में कहा, भारत में बहुत सारी विदेशी बीज कंपनियों के निवेश के साथ भारत की कंपनियां भी खुद में बेहतर प्रदर्शन कर रही है। यह छोटी जोत वाले किसानों को गुणवत्ता युक्त बीजों के विकास और आपूर्ति में देश के क्षमता को दर्शाता है। भारत में करीब 21 कंपनिया बीज बेचती हैं और 18 ने देश में ब्रीडिंग व उत्पादन गतिविधियों में निवेश किया है।

रिपोर्ट ज्यादातर पाकिस्तानी नहीं जानते क्या है इंटरनेट

इस्लामाबाद: पाकिस्तान में 15 साल से लेकर 65 साल की उम्र के 69 फीसदी लोगों को नहीं मालूम है कि इंटरनेट क्या होता है। यह बात सूचना-संचार प्रौद्योगिकी है(आईसीटी) आधारित एक सर्वेक्षण में प्रकाश में आई है। श्रीलंका के थिंक टैंक लाइर्नी एशिया द्वारा करवाए गए सर्वेक्षण की रिपोर्ट सोमवार को डॉन में प्रकाशित हुई है। रिपोर्ट पाकिस्तान के 2,000 लोगों के सर्वेक्षण के आधार पर तैयार की गई है।
सर्वेक्षक थिंक टैंक ने दावा किया है कि नमूने की प्रक्रिया के तहत राष्ट्रीय स्तर पर 15 साल से 65 साल की उम्र की 98 फीसदी आबादी के प्रतिनिधित्व सुनिश्चित की गई है। लाइनर एशिया की सीईओ हेलनी गलपाया ने कहा, पाकिस्तान दूरसंचार प्राधिकरण (पीटीए) की वेबसाइट में 15.2 करोड़ सक्रिय सेल्युलर फोन धारक हैं। चाहे वे आदमी हो या औरत, गरीब हो या अमीर लेकिन वे नहीं एप्स का उपयोग करना नहीं जानते हैं।

नीतीश के घर पर पर्व का उल्लास तो लालू के आवास पर पसरा रहा सन्नाटा

पटना : बिहार समेत पूरे उत्तर भारत में डाला छठ का पर्व धूमधाम से मनाया जा रहा है। एक ओर जहां समूचे उत्तर भारत में महिलाएं इस पारंपरिक पर्व को पूरे रीति-रिवाज के साथ मनाने में जुटी हुई हैं, वहीं बिहार में इसका एक खास अंदाज देखने को मिल रहा है। लेकिन इन सब के बीच राजधानी पटना में बिहार की सत्ता के दो शीर्ष राजनेताओं के घरों के नजारे भी अलग-अलग दिख रहे हैं। पटना के सर्कुलर रोड पर बने सीएम नीतीश कुमार के घर पर जहां छठ पर्व की खास रौनक दिख रही है, वहीं दूसरी ओर चारा घोटाले में सजा काट रहे आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद के घर पर सन्नाटा पसरा हुआ है।
कभी बिहार की सत्ता के शीर्ष पर रहे लालू यादव के परिवार में आजकल स्थितियां अनुकूल नहीं हैं। एक ओर जहां लालू चारा घोटाले से जुड़े एक मामले में रांची की जेल में सजा काट रहे हैं, वहीं दूसरी ओर उनके बेटे तेज प्रताप और बहू ऐश्वर्या के बीच रिश्तों में खटास परिवार की चिंता की वजह बनी हुई है। ऐसे में इस साल लालू यादव की पत्नी राबड़ी देवी ने खराब सेहत का हवाला देते हुए छठ पूजन में हिस्सा ना लेने की बात कही है। परिवार के एक करीबी सूत्र की मानें तो लालू का परिवार बीते कई दिनों से तेज प्रताप और ऐश्वर्या के रिश्तों को लेकर तनाव में है, ऐसे में हर वर्ष छठ का व्रत करने वाली राबड़ी देवी ने इस साल पूजन और व्रत की परंपरा में हिस्सा नहीं लिया है।
नीतीश के घर पर जुट रहे हैं तमाम दिग्गज
लालू यादव के आवास से 150 मीटर दूर स्थित सत्ताधीश नीतीश कुमार के घर पर छठ पूजा की खास रौनक देखने को मिल रही है। नीतीश कुमार का परिवार इस वर्ष भी पारंपरिक रीति-रिवाजों के साथ छठ पूजन में हिस्सा ले रहा है। इस बीच नीतीश के 7, सर्कुलर रोड स्थित आवास पर राजनेताओं और नौकरशाहों की भारी भीड़ भी दिख रही है। सीएम आवास पर छठ पर्व की सजावट के बीच नीतीश के घर पर इस वर्ष उनके साले अरुण कुमार की पत्नी रेणू देवी और भतीजियां झुन्नी कुमारी व रेखा देवी छठ व्रत कर रही हैं। इस बीच नीतीश भी बीते चार रोज से आवास पर आने वाले तमाम मेहमानों के बीच प्रसाद वितरण के काम की देखरेख कर रहे हैं और तमाम लोगों को बधाई भी देते दिख रहे हैं।
हर साल लालू के आवास पर जुटते रहे हैं वीवीआईपी
छठ पर्व पर उत्तर भारत में जश्न की तमाम तस्वीरों के बीच बिहार का यह नजारा सियासत के उतार-चढ़ाव की असलियत को बयान करता है। भले ही इस साल लालू प्रसाद के परिवार में छठ को लेकर कोई खास उत्साह ना दिखा हो, लेकिन बीते साल तक पटना के इस आवास पर नौकरशाहों और सियासत के तमाम दिग्गज छठ के पारंपरिक पूड़ी-खीर प्रसाद को ग्रहण करने यहां पहुंचते ही थे। सियासत और परीस्थितियां बदलने के साथ ही इस साल लालू के आवास पर कोई खास चहल-पहल नहीं दिखी, वहीं बिहार के अन्य सियासी राजनेताओं के घर हर साल की तरह इस बार भी अतिथियों का आना-जाना देखने को मिला।

नेताओं, जनता ने अनंत कुमार को दी श्रद्धांजलि

बेंगलुरु : केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्री एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता अनंत कुमार को श्रद्धांजलि देने के लिए मंगलवार को नेताओं एवं आम लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा। अनंत कुमार का सोमवार को बेंगलुरु के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया था। सोमवार सुबह से बसवनागुड़ी स्थित उनके आवास में रखे गए उनके पार्थिव शरीर को एक सज्जित सैन्य वाहन में मल्लेश्वरम स्थित भाजपा के प्रदेश मुख्यालय जगन्नाथ भवन ले जा गया। इस दौरान सेना के तीन अंगों- थलसेना, नौसेना और वायुसेना के कर्मी मौजूद रहे। उनकी शव यात्रा समर्थकों की नारेबाजी के साथ शुरु हुई जो इस दौरान भारत माता की जय, अनंत कुमार अमर रहें के नारे लगाते रहे। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बी एस येदियुरप्पा और पार्टी के कर्नाटक प्रभारी महासचिव मुरलीधर राव भाजपा के प्रदेश कार्यालय में मौजूद थे जहां मातम पसरा हुआ था। केंद्रीय मंत्री सदानंद गौड़ा, आर अशोक, के एस ईश्वरप्पा, अनुराग ठाकुर, प्रहलाद जोशी समेत भाजपा के कई नेता और सैकड़ों पार्टी कार्यकर्ताओं ने पार्टी कार्यालय में दिवंगत नेता को श्रद्धांजलि दी। यहां उनके पार्थिव शरीर को करीब एक घंटे तक रखा जाएगा। कुमार के शव को इसके बाद उनके निर्वाचन क्षेत्र में पडऩे वाले नेशनल कॉलेज ग्राउंड में रखा जाएगा जहां आम जनता उन्हें श्रद्धांजलि दे सकेगी। इसके बाद दोपहर में चामराजपेट शवदाह गृह में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। केंद्र सरकार ने राजकीय सम्मान के साथ कुमार का अंतिम संस्कार किए जाने की घोषणा की है। परिवार के करीबी सूत्रों के मुताबिक कुमार के भाई नंद कुमार ब्राह्मण रीति-रिवाजों से उनका अंतिम संस्कार करेंगे। बेंगलुरु दक्षिण सीट से सांसद 59 वर्षीय कुमार ने श्री शंकरा कैंसर अस्पताल और अनुसंधान केन्द्र में सोमवार तडक़े अंतिम सांस ली। उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के अलावा राजनाथ सिंह, पीयूष गोयल, हर्षवर्धन, राधा मोहन सिंह, रामदास अठावले, महेश शर्मा, अश्विनी कुमार चौबे और रामकृपाल यादव समेत कई केंद्रीय मंत्रियों ने मंगलवार को कुमार को श्रद्धांजलि दी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार रात वाराणसी से विमान से सीधे यहां पहुंचे और बसवनागुड़ी स्थित कुमार के आवास गए और कुमार के पार्थिव शरीर पर पुष्पचक्र अर्पित किया।

सबरीमाला फैसले पर पुनर्विचार की मांग वाली 48 याचिकाओं पर आज सुनवाई कर सकता है सुको

नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट मंगलवार को उन 48 याचिकाओं पर विचार कर सकता है, जिनमें केरल के सबरीमाला मंदिर में सभी आयुवर्ग की महिलाओं के प्रवेश की अनुमति वाले उसके 28 सितंबर के फैसले पर पुनर्विचार करने की मांग की गई है। तत्कालीन सीजेआई दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली 5 जजों की पीठ ने 28 सितंबर को 4-1 के अपने फैसले में सबरीमाला मंदिर में सभी आयुवर्ग की महिलाओं के प्रवेश का रास्ता साफ करते हुए कहा था कि यह पाबंदी लैंगिक भेदभाव के समान है।
सीजेआई रंजन गोगोई, जस्टिस आर. एफ. नरीमन, जस्टिस ए. एम. खानविलकर, जस्टिस डी. वाई. चंद्रचूड़ और जस्टिस इंदु मल्होत्रा की बेंच सबरीमाला संबंधी फैसले पर पुनर्विचार की मांग वाली 48 याचिकाओं पर विचार करेगी। इन याचिकाओं के अलावा, इस फैसले पर पुनर्विचार की मांग वाली 3 अलग-अलग याचिकाएं सीजेआई गोगोई, जस्टिस संजय किशन कौल और जस्टिस के. एम. जोसेफ की बेंच के सामने खुली अदालत में सुनवाई के लिए रखी जाएंगी। शीर्ष अदालत ने 9 अक्टूबर को एक संगठन की पुनर्विचार याचिका पर तत्काल सुनवाई से इनकार किया था।
सबरीमला मंदिर में सभी आयु वर्ग की महिलाओं के प्रवेश की अनुमति के सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद केरल में काफी विरोध-प्रदर्शन हुए। कई संगठन कोर्ट के फैसले के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं, वहीं कई संगठन कोर्ट के फैसले के पक्ष में भी प्रदर्शन कर रहे हैं।
सर्वदलीय बैठक बुलाने पर विचार कर रही केरल सरकार
इस बीच, केरल सरकार इस सप्ताह शुरू हो रहे वार्षिक तीर्थयात्रा सत्र से पहले सबरीमला मंदिर से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर चर्चा के लिए एक सर्वदलीय बैठक आयोजित कर सकती है। गौरतलब है कि रजस्वला आयु वर्ग की महिलाओं के प्रवेश के मुद्दे पर सबरीमाला मंदिर में गतिरोध जारी है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश से मंदिर में सभी आयु वर्ग की महिलाओं को पूजा की इजाजत मिलने के खिलाफ लगातार जारी विरोध की पृष्ठभूमि में सबरीमाला स्थित भगवान अयप्पा का मंदिर 17 नवंबर को 2 महीनों के लिए खुलेगा।

चक्रवाती तूफान गाजा ने अचानक बदला रास्ता

विशाखापत्तनम : दक्षिण भारत पर असर दिखा रहा चक्रवात गाजा, जो दक्षिण तटीय आंध्र प्रदेश पहुंचने वाला था, अचानक तमिलनाडु के इलाकों की ओर सोमवार को मुड़ गया। यह तूफान दक्षिण-पश्चिम की ओर 10 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से चलकर चेन्नै से 700 किमी दूर पहुंचा। यह जानकारी मौसम विभाग की ओर से जारी की गई है।
हालांकि, हैदराबाद स्थित मौसम विभाग के निदेशक के नागरत्ना का कहना है, दक्षिण आंध्र प्रदेश के तटीय इलाकों, खासकर नेल्लोर और चित्तूर जिलों में उस चक्रवात के कारण भारी बारिश और तेज हवाएं चल सकती हैं, जो 15 नवंबर को तमिलनाडु में उतरेगा। रत्ना ने कहा है कि 45-55 किमी/घंटा की रफ्तार से चल रहीं तूफानी हवाएं दक्षिण आंध्र के तट और रायलसीमा में 14 से चलेंगी। यह हवाएं धीरे-धीरे 80-90 किमी/घंटा की रफ्तार पकड़ेंगी जब तूफान जमीन पर पहुंचेगा।
तमिलनाडु होकर लौटेगा
मौसम विभाग के ताजा बुलेटिन के मुताबिक, सोमवार को गाजा बेहद तीव्र चक्रवाती तूफान में तब्दील हो चुका है। यह धीरे-धीरे कमजोर होकर वापस तीव्र तूफान होगा और तमिलनाडु से गुजरेगा। बता दें कि इससे पहले तमिलनाडु में गाजा चक्रवात के प्रभाव को देखते हुए मछुआरों के लिए अलर्ट जारी कर दिया गया। जारी किए गए अलर्ट में मछुआरों को बंगाल की खाड़ी की ओर ना जाने की हिदायत दी गई।
बंगाल की खाड़ी में पैदा हुआ
बंगाल की खाड़ी से ही चक्रवात गाजा उत्पन्न हुआ है और इसके प्रभाव के कारण तमिलनाडु के तटीय इलाकों में आज तेज बारिश की संभावना है। बता दें कि दक्षिणपूर्व और मध्य बंगाल की खाड़ी पर बना डिप्रेशन पश्चिम-उत्तरपश्चिम की ओर बढ़ गया और चक्रवाती तूफान गाजा में तब्दील होकर और तीव्र हो गया। इसका केंद्र पूर्व मध्य, पश्चिम मध्य और दक्षिण पूर्व बंगाल की खाड़ी में है।

दूध पिलाती मां से बंदर ने छीना बच्चा, मार डाला

आगरा : उत्तर प्रदेश के आगरा में बंदरों के आतंक की खबरें रोज आती हैं। लोगों के हाथों का सामान छीनकर भागने वाली घटनाएं रोज होती हैं लेकिन इस बार बंदर ने नवजात को दूध पिला रही एक मां से उसे छीन लिया और उसे फेंककर मार डाला। घटना सोमवार देर रात की है।
पुलिस ने बताया कि आगरा के रुनकता इलाके में कछारा ठोक कॉलोनी है। यहां पर योगेश का घर है। योगेश ऑटो रिक्शा ड्राइवर हैं। उनकी नेहा से दो साल पहले शादी हुई थी। दोनों के घर में 12 दिन पहले एक नन्हा मेहमान आया था।
नेहा रात में अपने 12 दिन के बच्चे आरुष उर्फ सनी को दूध पिला रही थीं। योगेश ने बताया कि घर का दरवाजा खुला था। तभी एक बंदर अचानक घर के अंदर घुस आया। नेहा कुछ समझ पातीं इससे पहले बंदर ने आरुष को गर्दन से उठा लिया और बाहर की ओर भागा। नेहा भी चिल्लाती हुई बंदर के पीछे भागीं। बंदर भागकर पड़ोसी की छत पर चढ़ गया।
नेहा की आवाज सुनकर लोग घरों से बाहर निकले। सबने बंदर को भगाया तो वह आरुष को वहीं फेंककर भाग गया। नेहा ने बताया कि आरुष की गर्दन से काफी खून बह रहा था। वे लोग उसे पास के प्राइवेट अस्पताल ले गए जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। लोगों ने बताया कि आरुष को मारने से पहले बंदर ने इलाके की एक चौदह साल की बच्ची पर भी हमला किया था। बच्ची को भी चोटें आईं हैं।
सब इंस्पेक्टर अतबीर सिंह ने कहा कि बच्चे का शव पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया था। पोस्टमॉर्टम में बच्चे के सिर और गले में घाव और चोटें मिली हैं। लोगों ने यह भी बताया कि इसी इलाके में कुछ दिनों पहले भी बंदर ने एक नवजात पर हमला किया था। हालांकि उस बच्चे को बचा लिया गया था।

भाजपा-कांग्रेस के कार्यकताओं में हुयी मारपीट, वाहनों को क्षतिग्रस्त किया

जगदलपुर :  चित्रकोट विधानसभा के गांव कुम्हली चौक पर कांग्रेस और भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच में जमकर मारपीट हुई है।
बताया जा रहा है कि यहां दोनों पक्षों ने एक दूसरे की गाडिय़ों को भी निशाना बनाया और इसमें तोडफ़ोड़ की है। बड़ांजी पुलिस के अनुसार घटना के बाद दोनों पक्षों ने थाने में शिकायत दर्ज करवाई है। पुलिस को दी गई शिकायत में भाजपाइयों ने आरोप लगाया है कि रात में कांग्रेसी कार्यकर्ता इलाके में पैसे बांट रहे थे, जब उन्हें रोकने की कोशिश की गई तो वे मारपीट पर उतारू हो गए। इसी तरह कांग्रेसियों ने थाने में जो शिकायत दर्ज करवाई है उसके अनुसार भाजपा कार्यकर्ता चोलीमेटावाड़ा से उनका पीछा कर रहे थे। इसके बाद कुम्हली चौक पर कार्यकर्ताओं की गाड़ी रुकवाकर मारपीट की गई। पुलिस के अनुसार घटना में भाजपा कार्यकर्ता की स्कार्पियो और कांग्रेस कार्यकर्ता की बोलेरो गाड़ी में तोडफ़ोड़ हुई है। इधर मारपीट की घटना के बाद देर रात तक इलाके में तनाव रहा, हालांकि मौके पर पुलिस के पहुंचने के बाद स्थिति में सुधार हुआ है।

बस्तर में मतदान का प्रतिशत रहा 60

जगदलपुर: मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सुब्रत साहू ने बतायसा कि बस्तर संभाग में करीब 60.49 प्रतिशत मतदान हुआ है। प्रथम चरण के 12 विधानसभा क्षेत्र के चित्रकोट में सबसे अधिक वोट पड़े है।
जाने कहां पड़े कितने वोट –
1. नारायणपुर में 33 प्रतिशत
2. अंतागढ़ में 43 प्रतिशत
3. कांकेर में 62 प्रतिशत
4. भानुप्रतापपुर में 57 प्रतिशत
5. कोंडागांव में 61.47 प्रतिशत
6. केशकाल में 63.51
7. कोंटा में 46.19प्रतिशत
8. दंतेवाड़ा में 49 प्रतिशत
9. बीजापुर में 33 प्रतिशत
10. बस्तर में 70 प्रतिशत
11. जगदलपुर में 65 प्रतिशत
12. चित्रकोट में 71 प्रतिशत वोट पड़े हैं।
विधानसभा क्षेत्र में कुल मतदान
नारायणपुर 111861 70.17 प्रतिशत, केशकाल 141282 83.35 प्रतिशत, कोंडागांव 124877 84.63 प्रतिशत, बस्तर 114091 84.28 प्रतिशत ,जगदलपुर 129381 73.61 प्रतिशत, चित्रकोट 118999 78.89 प्रतिशत, दंतेवाड़ा 107974 61.93 प्रतिशत, कोंटा 75848 48.36 प्रतिशत,बीजापुर 69826 44.96 प्रतिशत।

एटीएम कार्ड बदलकर ठगी

कोरबा : एक सीएसईबी कर्मी का एटीएम कार्ड बदलकर तीन युवकों ने 40 हजार निकाल लिए। इसकी जानकारी मिलने पर कर्मी ने इसकी शिकायत पुलिस से की है।
सीएसईबी कॉलोनी में रहने वाले बालेश्वर निर्मलकर बुधवारी के एटीएम से पैसे निकलवाने गए हुए थेए लेकिन वहां पैसा नहीं निकला। इस बीच बाहर खडे तीन युवकों ने उन्हें मदद करने की बात कही। बालेश्वर राजी हो गया और उन्हें अपना एटीएम कार्ड दे दिया। युवकों ने उसकी आंख में धूल झोककर एटीएम कार्ड को बदलकर उसे पैसे निकालकर दे दिए। बालेश्वर जब घर पहुंचा, इस बीच उसे बैंक का मैसेज आया। उसने देखा कि उसके खाते से 40 हजार रुपये पार हो गए हैं। बालेश्वर भारतीय स्टेट बैंक की एसईसीएल शाखा जाकर घटना की जानकारी ली, तब उन्हें ठगी का अहसास हुआ। इसकी शिकायत उन्होंने मानिकपुर पुलिस से की है। पुलिस अपराध पंजीबद्ध कर मामले की विवेचना कर रही है।