खनिज राजस्व लक्ष्य में पहली बार 300 करोड़ की बढ़ोत्तरी

खनिज राजस्व लक्ष्य में पहली बार 300 करोड़ की बढ़ोत्तरी

कोरबा : वित्तीय वर्ष 2018-19 शुरू होने के पांच माह बाद शासन ने जिला खनिज न्यास का राजस्व आय लक्ष्य निर्धारित किया है। विभाग को साल के अंत तक 1798 करोड़ राजस्व आय देना होगा। वर्ष 2017-18 में यह लक्ष्य 1496 करोड़ था। जिसके विरुद्ध विभाग ने 1536 करोड़ का आय हासिल किया था। साल भर के अंतराल में खदान संख्या व रायल्टी दर में इजाफा किए बिना 300 करोड़ आय में बढ़ोतरी करने से लक्ष्य पूरा करने,खदानों में उत्पादन बढ़ाने से वर्क लोड बढ़ेगा।
खनिज विभाग ने लक्ष्य से बढक़र अब तक राजस्व आय दिया है। जारी वित्तीय वर्ष में शासन ने आय दर में जितनी बढ़ोतरी की है, उससे लक्ष्य पूरा करने का दबाव अधिकारियों पर बढ़ गया है। वित्तीय वर्ष का छठवां महीना जारी है। माह अप्रैल से अगस्त तक खनिज विभाग ने पांच माह के उपरांत 797 करोड़ आय अर्जित किया है। बीते वित्तीय वर्ष की तुलना की जाए तो आय 620 करोड़ था। इस आशय से राजस्व में अभी से 177 करोड़ आय में इजाफा हुआ है। जिले में खनिज राजस्व आय का मुख्य स्त्रोत कोयला उत्पादन है। कोयला व ऑक्शन खदानों पर गौर करें तो जिले में अब तक 16 खदानों का संचालन हो रहा है, जिसमें 13 खदानों का संचालन हो रहा है। कोयला उत्खनन में प्रतिटन रायल्टी दर 133 रुपये निर्धारित है। यह दर पिछले वित्तीय वर्ष में भी था। इसके अलावा खदानों की तादाद में अब तक बढ़ोतरी नहीं हुई है। इससे कोयला खदानों में लक्ष्य पूर्ति को लेकर मजदूरों में वर्क लोड रहेगा। ओवरटाइम के एवज में भले ही मजदूरों को अतिरिक्त भुगतान किया जाता है, किंतु इसका मजदूरों के स्वास्थ्य पर विपरीत असर होता है। वर्ष 2017-18 में प्राप्त कुल आय में गौण खनिज से प्राप्त का आय का बेहतर सहयोग था। नेशनल हाईवे बनने से खनिज विभाग मुरूम पत्थर व रेती उत्खनन में राजस्व मिला है। जारी वर्ष में नेशनल हाईवे की अभी तक शुरुआत नहीं हुई है, इस आशय से गौण खनिज से आय मिल पाना संभव नजर नहीं आ रहा। राजस्व लक्ष्य पूरा करने को लेकर अधिकारियों पर भी दबाव रहेगा। चुनावी वर्ष होने से विभागीय अधिकारियों को अतिरिक्त समय देकर विभागीय कार्य को पूर्ण कराना होगा। राजस्व आय लक्ष्य में इजाफा को लेक अधिकारियों के माथे पर चिंता की लकीरें खिंच गई है।
खनिज विभाग को राजस्व देने में मुख्य खनिज कोयल खदान के अलावा वाले सहायक आय स्त्रोत वाले गिट्टी पत्थर, मुरूम, चूना मिट्टी खदान का भी अहम योगदान होता है। इसके विपरीत विभाग से चिन्हांकित खदानों में विवाद की स्थिति बनी हुई है। पोढ़ी.उपरोढ़ा के मातिन पहाड़ में जारी पत्थर खदान को मातिन दाई मंदिर परिसर को क्षति पहुंचाने की वजह से बंद कर दिया गया है। इसी तरह कटघोरा के आसपास कई मुरूम खदानों में निजी जमीन होने की विवाद के कारण संचालन नहीं हो रहा है। राजस्व आय लक्ष्य बढऩे से प्रशासनिक स्तर पर खदानों में उत्पादन दबाव बढऩा स्वाभाविक है। कोयला उत्पादन की अंधी दौड़ में पर्यावरण संरक्षण नियम की धज्जियां उड़ रही है। लगातार बढ़ रहे डंपिंग यार्ड की ऊंचाई व मापदंड क्षमता से अधिक गहराई तक हो रही खोदाई ओपन कास्ट खदानों में देखा जा सकता है। राजस्व लक्ष्य से बढऩे का सीधा असर अब उत्खनन लक्ष्य पर होगा। उत्पादन में जिस तादाद में लक्ष्य साधा जा रहा है, उसके विपरीत पर्यावरण संरक्षण के लिए कारगर कदम नहीं उठाए जा रहे। जारी वित्तीय वर्ष में जिला खनिज विभाग के लिए राजस्व आय का निर्धारण कर दिया गया है। वर्ष के अंत तक 1798.35 करोड़ आय अर्जित करना होगा। रायल्टी दर में कोई परिवर्तन नहीं किया गया है। खदानों की संख्या यथावत है।

मुक्केबाज माइक टायसन ताजमहल का दीदार करने आगरा पहुंचे

मुक्केबाज माइक टायसन ताजमहल का दीदार करने आगरा पहुंचे

आगरा: पूर्व विश्व हैवीवेट चैम्पियन मुक्केबाज माइक टायसन रविवार को ताजमहल का दीदार करने आगरा पहुंचे. दोपहर में चार्टर फ्लाइट से खेरिया हवाई अड्डा पहुंचे माइक टायसन के साथ उनकी पत्नी व तीन अन्य लोग भी थे. मुंबई से उनके साथ सपा नेता अबु आजमी के बेटे फरहान आजमी भी थे. मुक्केबाज माइक टायसन पहली बार भारत आए हैं. वह बॉक्सिंग लीग का उद्घाटन करने के लिए मुंबई में हैं. आगरा में उनका स्वागत पूर्व खेलमंत्री रामसकल गुर्जर ने किया.

सेल्फी लेने के लिए सैलानी आतुर, सुरक्षाकर्मियों ने रोक दिया

होटल अमर विलास में लंच करने के बाद करीब ढाई बजे माइक टायसन ताजमहल पहुंचे. कड़े सुरक्षा घेरे में टायसन ने करीब एक घंटे तक ताज का दीदार किया. गाइड की मदद से ताज के इतिहास की जानकारी की. माइक टायसन को ताज में देखकर सैलानी उनके साथ सेल्फी लेने को आतुर हो गए, लेकिन सुरक्षाकर्मियों ने सैलानियों को दूर कर दिया. माइक टायसन ने मीडिया से भी कोई बात नहीं की. ताज से निकलकर वह सीधे खेरिया एयरपोर्ट रवाना हो गए.

सोशल मीडिया, फेसबुक और ट्विटर चुनाव के दौरान फर्जी खबरों को रोकने में मदद करेंगी निर्वाचन आयोग

सोशल मीडिया, फेसबुक और ट्विटर चुनाव के दौरान फर्जी खबरों को रोकने में मदद करेंगी निर्वाचन आयोग

नई दिल्ली: सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स फेसबुक और ट्विटर चुनाव के दौरान फर्जी खबरों को रोकने में निर्वाचन आयोग की मदद करेंगी. यह जानकारी मुख्य निर्वाचन आयुक्त ओपी रावत ने दी. उन्होंने कहा कि फेसबुक और ट्विटर ने आश्वासन दिया है कि प्रचार के दौरान चुनावों की शुचिता को प्रभावित करने वाली किसी भी चीज का वह अपने प्लेटफॉर्म पर प्रयोग नहीं होने देंगे.

रावत ने कहा कि कर्नाटक चुनाव के दौरान इसका परीक्षण किया गया था. उन्होंने कहा कि तब छोटी पायलट परियोजना के तौर पर इसका प्रयोग किया गया था, अब लोकसभा चुनावों से पहले मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मिजोरम में वृहद स्तर पर इसका इस्तेमाल किया जाएगा. इन चारों राज्यों में इस साल के अंत तक विधानसभा चुनाव होने हैं.

रावत ने कहा कि वरिष्ठ उप निर्वाचन आयुक्त उमेश सिन्हा के नेतृत्व में एक समिति ने गूगल, फेसबुक और ट्विटर के क्षेत्रीय और स्थानीय प्रमुखों को बुलाया था. समिति ने उनसे पूछा था कि फर्जी खबरों के प्रतिकूल प्रभावों को रोकने और मतदाताओं को लक्षित कर डाले गये संदेशों से बचने के साथ भारतीय चुनावों की शुचिता के लिए वे क्या कर सकते हैं.

उन्होंने कहा, ‘उन सभी ने प्रतिबद्धता जताई है कि प्रचार अवधि के दौरान और मतदान समाप्त होने से पहले के 48 घंटे के दौरान वे ऐसी कोई चीज नहीं होने देंगे जो इन प्लेटफॉर्मों पर समान अवसर दिए जाने की प्रक्रिया पर विपरीत असर डालती हो. उन्होंने वादा किया है कि चुनावों से जुड़ा कुछ भी उनके प्लेटफॉर्मों पर डालने की इजाजत नहीं दी जाएगी.’

मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने कहा कि उक्त कंपनियों ने आयोग को यह भरोसा भी दिलाया है कि राजनीतिक विज्ञापनों के साथ उन पर खर्च राशि का ब्योरा भी होगा ताकि प्रचार अवधि के दौरान के व्यय का हिसाब लगाया जा सके. उन्होंने बताया कि गूगल एक ऐसी व्यवस्था तैयार करेगी जिससे यह अपने प्लेटफॉर्मों पर खर्च के बारे में डाली गई जानकारी चुनाव आयोग के साथ साझा कर सके.

ज्ञात हो कि मीडिया प्लेटफॉर्मों के विस्तार और विविधता को देखते हुए जन प्रतिनिधित्व कानून, 1951 की धारा 126 में संभावित बदलावों पर विचार करने के लिए सिन्हा के नेतृत्व में.

बीसीसीआई को पीसीबी के साथ क्रिकेट में कोई आपत्ति नहीं है,कुछ मुद्दे हैं जिन्हें सरकार के स्तर पर सुलझाना पड़ेगा:राजीव शुक्ला

बीसीसीआई को पीसीबी के साथ क्रिकेट में कोई आपत्ति नहीं है,कुछ मुद्दे हैं जिन्हें सरकार के स्तर पर सुलझाना पड़ेगा:राजीव शुक्ला

नई दिल्ली: भारत और पाकिस्तान के बीच सीमा पर तनाव जारी है. पड़ोसी देश पाकिस्तान सीमा पर लगातार अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा है जिसके कारण बीते कुछ सालों से भारत और पाकिस्तान के रिश्तों में खटास पैदा हो गई है. इसके कारण दोनों देशों के बीच होने वाली क्रिकेट पर प्रभाव पड़ा है. भारत ने पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय क्रिकेट खेलने से इनकार कर दिया है. वहीं, पाकिस्तान भारत के साथ क्रिकेट खेलने की मांग कर रहा है.

इस बीच भारत के रवैये के खिलाफ पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड आईसीसी के पास पहुंच गया है और उसने बीसीसीआई पर 70 मिलियन डॉलर यानी करीब 500 करोड़ रुपए देने का दावा किया है. इस मामले की सुनवाई सोमवार 1 अक्टूबर से आईसीसी के पास दुबई में शुरु हो रही है.

इस बीच आईपीएल के चेयरमैन राजीव शुक्ला और बीसीसीआई अध्यक्ष अनुराग ठाकुर ने इस बारे में बयान दिया है. राजीव शुक्ला ने इस बारे में बोलते हुए कहा है कि बीसीसीआई को पीसीबी के साथ क्रिकेट में कोई आपत्ति नहीं है लेकिन कुछ मुद्दे हैं जिन्हें सरकार के स्तर पर सुलझाना पड़ेगा.

मिडिया से बात करते हुए राजीव शुक्ला ने कहा, ‘जहां तक मेरी राय है तो बीसीसीआई और पीसीबी को अपने मसले खुद सुलझाने चाहिए न कि उन्हें आईसीसी के पास ले जाना चाहिए. बीसीसीआई तो पाकिस्तान के साथ क्रिकेट खेलना चाहता है लेकिन कुछ मुद्दे हैं और इसलिए बीसीसीआई को पाकिस्तान जाकर क्रिकेट खेलने के लिए सरकार की अनुमति चाहिए.’

आईसीसी में पीसीबी के बीसीसीआई पर दावा करने पर बोलते हुए राजीव शुक्ला ने कहा, ‘भारत ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर किसी भी आईसीसी टूर्नामेंट या एशियाई क्रिकेट काउंसिल के टूर्नामेंट में पाकिस्तान के खिलाफ खेलने से कभी इनकार नहीं किया है इसलिए पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड को पैसा देने का कोई सवाल नहीं उठता है.

अगले साल शादी कर सकते हैं अरबाज खान और जॉर्जिया ऐंड्रियानी

अगले साल शादी कर सकते हैं अरबाज खान और जॉर्जिया ऐंड्रियानी

ऐक्टर अरबाज खान और उनकी कथित गर्लफ्रेंड जॉर्जिया ऐंड्रियानी इन दिनों सुर्खियों में हैं। अरबाज को कई बार जॉर्जिया के साथ डेट पर स्पॉट किया गया है। बता दें कि अपनी पत्नी मलाइका अरोड़ा से अलग होने के बाद अरबाज के जॉर्जिया के साथ रिलेशनशिप में होने की खबरें हैं। अब दोनों के बारे में एक और नई चर्चा ने जोर पकड़ा है। खबर है कि दोनों अगले साल शादी करने वाले हैं।
मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार दोनों अपने रिश्ते को एक कदम आगे बढ़ाने के लिए तैयार हैं। दोनों के परिवार ने उनके रिश्ते के लिए अपनी सहमति दे दी है। दोनों अगले साल कोर्ट मैरिज कर सकते हैं। यह बेहद निजी कार्यक्रम होगा। हालांकि, शादी की तारीख के बारे में अभी कोई खबर नहीं है।
बता दें कि अरबाज खान की कथित गर्लफ्रेंड जॉर्जिया ऐंड्रियानी इटैलियन मॉडल हैं और पिछले काफी समय से मॉडलिंग के फील्ड में सक्रिय हैं। जॉर्जिया साल 2017 में रिलीज हुई फिल्म गेस्ट इन लंदन में नजर आई थीं। इस फिल्म में कार्तिक आर्यन और कृति खरबंदा लीड रोल में थे।

अलीशा को महेश भट्ट संग काम करने की उम्मीद

अलीशा को महेश भट्ट संग काम करने की उम्मीद

आगामी फिल्म द डार्क साइड ऑफ लाइफ : मुंबई सिटी की रिलीज के लिए तैयार अभिनेत्री अलीशा खान का कहना है कि उन्हें उम्मीद है कि अगली फिल्म में उन्हें महेश भट्ट के साथ काम करने का मौका मिलेगा। अलीशा ने अपनी आगामी फिल्म द डार्क साइड ऑफ लाइफ : मुंबई सिटी के प्रचार के दौरान यह बात कही। इसमें भट्ट अभिनेता के तौर पर नजर आएंगे।
उनके साथ काम के बारे में पूछे जाने पर अलीशा ने कहा, मुझे उनके साथ काम का मौका नहीं मिला, लेकिन मैंने शूटिंग के दौरान उन्हें करीब से देखा और यह अद्भुत अनुभव रहा। उन्होंने कहा कि मुझे उम्मीद है कि अगली फिल्म में उनके साथ काम का मौका मिलेगा।

लैंडिग के दौरान रनवे से फिसला विमान, सीधा समुद्र में जा कर रुका

लैंडिग के दौरान रनवे से फिसला विमान, सीधा समुद्र में जा कर रुका

माइक्रोनेशिया : माइक्रोनेशिया में एक एयरपोर्ट पर गुरुवार को ऐसी घटना सामने आई जिसे जानकर हर कोई हैरान है। दरअसल, प्रशांत महासागर के तट पर स्थित पापुआ न्यू गिनी का एक विमान लैंड करते समय रनवे पर दौड़ रहा था कि इसी दौरान वह बेकाबू हो गया और सीधा समुद्र में जा घुसा। इस हादसे में कोई जानी नुकसान की खबर नहीें है। स्थानीय अधिकारियों ने इस बात की पुष्टि की है कि एयर न्यू गिनी के विमान में मौजूद सभी यात्री सुरक्षित हैं।
पुलिस अधिकारी के अनुसार, इस प्लेन में करीब 36 यात्री और 11 क्रू मेंबर्स सवार थे। विमान को सुबह करीब 9.30 बजे लैंड करना था जब वह लैंड कर रहा था तो रनवे पर रुका ही नहीं और सीधा चलता चला गया। प्लेन रनवे से करीब 160 मीटर आगे तक चलता चला गया और वह समुद्र में जा कर रुका। जिस दौरान यह हादसा हुआ उस समय सभी यात्री प्लेन में मौजूद थे।
बता दें कि एयर न्यू गिनी का बोईंग 737-800 इस घटना का शिकार हुआ है। फिलहाल सभी यात्रियों को उपचार के लिए अस्पातल मे भर्ती करवाया गया है।

बिग बॉस 12 में लेने वाले है एंट्री :विकास गुप्ता

बिग बॉस 12 में लेने वाले है एंट्री :विकास गुप्ता

मुंबई: कलर्स चैनेल पर प्रसारित टीवी शो बिग बॉस 12 के घर में कई सारे ट्विस्ट आने शुरू हो गए हैं. बिग बॉस के घर में पहला लग्जरी बजट टास्क पूरा किया जा चुका है.

जी हां, यह टास्क सेलिब्रिटीज़ की टीम ने जीता है. दीपिका, सृष्टि, करनवीर और नेहा इस जीत का जश्न मना रहे हैं. वहीं नयी खबर यह है कि इस शो के आने वाले एपिसोड में दर्शक देखेंगे कि पिछले शो के प्रतिभागी विकास गुप्ता एंट्री लेने वाले हैं. जी हाँ, वह घर में एक खास मकसद से एंट्री लेने वाले हैं. इसी क्रम में होने ये वाला है कि विकास घर वालों की अच्छी तरह से क्लास भी लेंगे और उन्हें राय भी देने वाले हैं. ऐसे में उनकी सबसे पहली सलाह नेहा को है कि विकास को लगता है कि वह अपना काम सही तरीके से नहीं करती हैं और उनकी अपनी कोई ओपिनियन भी नहीं है. साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि नेहा को झुंड में चलने की आदत है जबकि दर्शक उनसे यही अपेक्षा कर रहे हैं कि नेहा शो में एक स्ट्रांग कनटेंडर के रूप में उभरें.

वहीं उन्होंने सृष्टि को राय दी है कि वह अब तक शो में खुल कर सामने नहीं आ रहे हैं और उनके लिए फिर शो में आगे बने रहना काफी मुश्किल होने वाला है.इसलिए अब वक् त आ गया है कि उन्हें अब शो में खुल कर अपनी बात रखनी चाहिए और आगे बढ़ना चाहिए. वहीं वह करनवीर को कहने वाले हैं कि वह शो को बखूबी खेल रहे हैं, लेकिन उन्हें और अधिक मेहनत करने की जरूरत है.

बिग बॉस सीजन 12 की जब से शुरुआत हुई है तब से ही एक जोड़ी ने अपना दबदबा बनाया हुआ है. अगर बात करें सोशल मीडिया की या फिर सभी जगह चर्चे की तो अनूप जलोटा और जसलीन मथारू इस समय इस मामले में शीर्ष पर हैं. एेसे कयास तो बहुत पहले से लगाए जा रहे थे कि जिस प्रकार अनूप जलोटा और जसलीन मथारू की बिग बॉस सीजन 12 में एंट्री हुई थी तो इन दोनों के बीच रोमांस तो जरूर देखने को मिलेगा। तो अभी तक तो सिर्फ रोमांटिक बातें चल रही थी लेकिन अब जसलीन एक कदम आगे बढ़ते हुए अनूप पर प्यार बरसा रही हैं.

राफेल डील वाली कमिटी के 3 मेंबर्स ने उठाए थे बेंचमार्क कॉस्ट पर सवाल

राफेल डील वाली कमिटी के 3 मेंबर्स ने उठाए थे बेंचमार्क कॉस्ट पर सवाल

नई दिल्ली : फ्रांस से राफेल फाइटर जेट्स खरीदने की 7.87 अरब डॉलर की डील को नेगोशिएटिंग कमिटी ने बहुमत के निर्णय के साथ पास किया था। सदस्यों ने प्राइसिंग, भारत की जरूरतों के मुताबिक किए जाने वाले अपग्रेडेशन की लागत और इस डील के लिए एकमात्र कॉम्पिटीटर कंपनी की ओर से दिए जा रहे डिस्काउंट पर विचार नहीं करने को लेकर सवाल उठाए थे, लेकिन कमिटी में बहुमत की राय इस नतीजे पर पहुंची कि प्रस्तावित सौदे की शर्तें वाजिब हैं।
कमिटी के भीतर इस बात पर गहन चर्चा हुई थी कि इस डील में प्राइस रक्षा मंत्रालय के 5.2 अरब डॉलर के अनुमान या बेंचमार्क से काफी ज्यादा है। यह माना गया कि यह बेंचमार्क काफी कम है और यूपीए शासन में 126 विमानों के लिए बिडिंग से तय की गई प्राइस के आधार पर नई लागत तय की जाएगी। ऐसा करने पर कमिटी ने ऑरिजिनल बेंचमार्क प्राइस बढ़ाकर 8.2 अरब डॉलर कर दिया। इस पैमाने पर 36 राफेल विमानों के लिए तय की गई कीमत सस्ती पाई गई।
कई सूत्रों ने बताया कि फ्रांसीसी पक्ष से सीधे मोलतोल करने वाली इस कमिटी के 7 में से 3 सदस्यों ने भी ऐसी टिप्पणियां की थीं, जिनमें कॉन्ट्रैक्ट के बारे में करीब एक दर्जन मसले उठाए गए थे। हालांकि उन पर बहुमत की राय भारी पड़ी। बहुमत की राय पर फिर डिफेंस एच्जििशन काउंसिल ने मंजूरी दी और बाद में उसे सुरक्षा मामलों की कैबिनेट कमिटी के पास भेजा गया।
36 राफेल विमानों की खरीद के मामले में बेंचमार्क कॉस्ट शुरू में 5.2 अरब डॉलर तय की गई थी, जब 2015-16 में इस पर बातचीत शुरू हुई थी। बाद में 7 सदस्यों वाली कमिटी ने बेंचमार्क प्राइस तय करने का नया फॉर्मूला पेश कर दिया। कमिटी के काम से वाकिफ सूत्रों ने बताया कि 5.2 अरब डॉलर का आंकड़ा ‘उचित’ नहीं था। नए फॉर्मूले में गणना उस ऑफर का उपयोग करते हुए की गई, जो दैसॉ ने पुराने कॉन्ट्रैक्ट के लिए दिया था और यह भी देखा गया कि 126 विमान खरीदने में इसके चलते कितनी लागत आती।