चोरी के शक में युवक की भीड़ ने पिटाई, मौत

नईदिल्ली: दिल्ली में चोर होने के संदेह पर एक युवक की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई। शुक्रवार को पुलिस ने इस घटना की जानकारी दी। यह घटना गुरुवार की देर रात हुई जब पीडि़त एक घर में घुस रहा था।
एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी बताया कि कुछ स्थानीय लोगों ने उसे चोर समझ कर पकड़ लिया और उसकी बेहोश होने तक पिटाई कर दी। जिसके बाद बेहोशी की हालत में युवक को अस्पताल ले जाया गया, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। युवक की अभी तक शिनाख्त नहीं हो पाई है। इस मामले में एक व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया गया है, वहीं एक अन्य को हिरासत में लिया गया है। मामले की जांच चल रही है।

सोने के कलश को बेचने का लालच देकर ठगी, मामला दर्ज

रायपुर: फेसबुक पर दोस्ती करके युवती ने एक युवक को अपने झांसे में लेकर 12 लाख रुपये की ठगी किया है। घटना की रिपोर्ट तेलीबांधा थाने में दर्ज की गई है। मिली जानकारी के अनुसार ग्राम जरही थाना भटगांव जिला सूरजपुर निवासी अरुण कुमार सिंह ने रिपोर्ट दर्ज करायी है कि उनका बेटा दिवाकर सिंह 28 वर्ष को फेसबुक केे माध्यम से पखांजूर निवासी अनामिका धू्रव से दोस्ती होने के पश्चात उससे लगातार बात -चीत हो रहा था,अनामिका धू्रव ने उसे विश्वास में लेकर कहा कि उसके परीचित बीमार है व गरीब होने के चलते ईलाज कराने के लिये पैसा नहीं है,उनके पास एक सोने का कलश रखा हुआ है उसे वह बेचना चाहते है ऐसा कहकर उसने बेटे को झांसे में लेकर सोना का कुछ टुकड़ा का सेंपल भेजा जिसे जांच में असली पाया। तो वह विश्वास करके अनामिका धू्रव व उसके मित्र विनय घरामी के बुलाने पर रायपुर पहुंच गया वहा उन्होंने सोना का कलश 12 लाख रुपये में बेचने की बात कही व बेटे ने अपने दोस्त अजय के साथ जाकर बैंक शाखा से अवंती विहार तेलीबांधा में 10 लाख रुपये निकाला व नगदी पहले से 2 लाख रुपये घर से लेकर गया था। जिसे आनामिका ध्रूव व विनय घरामी को दे दिया रुपये के बदले में उसे एक थैला दिया व कहा कि कलश इसी मैं रखा है और यह कहकर दो चले गये बाद में थैला खोलकर देखा तो उसमें नकली लोहे का समान रखा था। घटना की रिपोर्ट पर पुलिस ने धारा 420,34 के तहत अपराध कायम कर लिया है।

पहली पारी में विकेट पर उम्मीद से ज्यादा टर्न था : धोनी

नईदिल्ली : चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ मंगलवार को यहां आखिरी ओवर में मिली जीत के बाद कहा कि पहली पारी में विकेट पर उम्मीद से ज्यादा टर्न था। धोनी ने मेजबान टीम के खिलाफ 35 गेंदों पर 32 रनों की पारी खेली।
मैच के बाद धोनी ने कहा, पहली पारी में विकेट उम्मीद से ज्यादा टर्न हुआ। दूसरी पारी में ओस के कारण बल्लेबाजों को थोड़ी आसानी हुई। गेंदबाजों ने विपक्षी टीम को 150 तक सीमित रखकर अच्छा कार्य किया। बल्लेबाजों को थोड़ी तेजी पंसद है ताकि गेंद अच्छे से बल्ले पर आए और जब ऐसा होता है तब हमारी टीम अधिक बेहतर नजर आती है।
चेन्नई की फिल्डिंग पर हमेशा से सवाल खड़े होते रहे हैं और दिल्ली के खिलाफ भी मेहमान टीम ने कुछ मौके गंवाए।
धोनी ने कहा, मैं नहीं समझता कि हम बहुत अच्छी फिल्डिंग करने वाली टीम होंगे और हमें यह मानना होगा, लेकिन हम सुरक्षित फिल्डिंग करने वाली टीम बन सकते हैं। हमें इस पर काम करना होगा।
चेन्नई, हालांकि इस सीजन के पहले दो मुकाबलों में जीत दर्ज कर चुकी है, लेकिन इसके बावजूद धोनी का मानना है कि टीम को सुधार करने की आवश्यकता है।
धोनी ने कहा, शुरुआत में नगीदी को खोना एक बड़ा झटका है क्योंकि वह सबसे तेज थे, लेकिन हमारे हर विभाग में प्र्याप्त खिलाड़ी हैं। पिछले कुछ मैचों में हमारे गेंदबाजों ने डेथ ओवर नहीं डाले इसलिए कई ऐसे क्षेत्र हैं जहां हमें काम करने की आवश्यकता है।

पति के टुकड़े-टुकड़े कर सिर नाले में फेंका

नईदिल्ली : राजधानी दिल्ली के स्वरूप नगर इलाके में एक दिल दहला देने वाली वारदात सामने आई है। इस इलाके के एक मकान में मिट्टी में टुकड़े-टुकड़़े कर दबाया गया शव मिला। यह टुकड़े राजेश नामक एक व्यक्ति के थे, जिसकी ये निर्मम हत्या उसी की पत्नी सुनीता ने की थी।
जांच में ये सामने आया है कि सुनीता अपनी शादीशुदा जिन्दगी से खुश नहीं थी, इसी लिए उसने अपने पति का कत्ल कर लाश को टुकड़़ों में दफना दिया। वारदात संबंधी तब पता चला जब मकान मालिक ने जमीन खुदवाने का कारण पूछा, जिसका सुनीता को संतोषजनक जवाब नहीं दे पाई। जिस कारण गड्ढे को फिर से खुदवाया गया और उसके अंदर टुकड़ों में पड़ी लाश को देखकर सभी हक्के बक्के रह गए। खुदाई में शरीर के टुकड़े मिले लेकिन सिर गायब मिला।
मिली जानकारी के अनुसार आरोपी महिला सुनीता और राजेश की शादी साल 2006 में हुी थी। उस वक्त राजेश 50 साल के थे और सुनीता 25 साल की। बताया गया है कि जब वे करीब एक साल पहले नए घर में शिफ्ट हुए। पति को सुनीता पर शक होने लगा। राजेश को शक था कि पड़ोस में रहने वाले युवक के साथ सुनीता के अवैध संबंध थे।
पुलिस के मुताबिक, वारदात के दिन सुनीता ने अपने बेटे को उसके दोस्त के घर भेज दिया था और लेट लौटने को कहा था। इसके बाद उसने अपने पति राजेश को नशीला ड्रिंक दिया और जैसे ही उसने होश खोए, उसका गला दबा दिया। इसके बाद उसने तब तक चाकू घोंपे जब तक उसकी मौत नहीं हो गई। इसके बाद सुनीता ने राजेश के शव के टुकड़े किए। इसके बाद अपने कमरे के बाहर खाली जगह को खोदा और टुकड़ों को उसमें गाड़ दिया। इसके बाद राजेश के सिर को एक प्लास्टिक बैग में पैक कर वह घर से एक किलोमीटर दूर भलस्वा डेरी के नाले में फेंक आई। राजेश के पैरों को उसने दूसरे बैग में पैक किया और कहीं और फेंका। घर लौटकर उसने घर की सफाई की और खुदे फ्लोर पर बजड़ी और मिट्टी डालकर उसे ढक दिया।

पाक से आई 500 करोड़ ड्रग की भारत में होनी थी स्मगलिंग

अहमदाबाद: गुजरात में समुद्र तट से दूर भारतीय सीमा क्षेत्र में इंडियन कोस्ट गार्ड ने रविवार को एक संदिग्ध पाकिस्तानी बोट पकड़ी है। बताया जा रहा है कि इस पाकिस्तानी बोट ने सुबह करीब 10.15 बजे जैसे ही भारतीय जलक्षेत्र में प्रवेश किया तो पोरबंदर के पास गुजरात एटीएस और ड्रग माफिया के बीच मुठभेड़ हुई।
इस मुठभेड़ में एटीएस अधिकारियों के साथ भारतीय तटरक्षक बल ने गुजरात के तट से दूर एक नाव से 9 ईरानी नागरिकों को पकड़ा है और उनके पास से लगभग 100 किलोग्राम हेरोइन जब्त की है। बीच सागर में किए गए ऑपरेशन की फोटोज भी सामने आई है। तस्वीर में तस्करों की नाव धू-धू कर चलती दिखती है। रिपोर्ट के मुताबिक, मंगलवार की रात सुरक्षा एजेंसियों ने 100 किलो हेरोइन के साथ आ रहे पाकिस्तानी नाव को इंटरसेप्ट किया था।
खबरों के मुताबिक, तस्करों ने ड्रग को नष्ट करने की कोशिश की थी, लेकिन एटीएस ने सभी 9 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। सभी आरोपी ईरानी मूल के हैं। एटीएस के मुताबिक, नाव को पोरबंदर आईसीजी स्टेशन पर लाया जा रहा था। बोट में 500 करोड़ की ड्रग्स बताई जा रही है। बताया जा रहा है कि बोट में भरी ड्रग का कंसाइनमेंट पाकिस्तान के हमीद मलिक ने भेजा था। मामले की जांच की जा रही है।



श्रीसांई मोटर्स के संचालक को आरक्षक ने मारी गोली, मौत

रायपुर: राजधानी रायपुर के पचपेढ़ी नाका में स्थित श्रीसांई मोटर्स के संचालक संजय अग्रवाल पर एक युवक ने फायरिंग कर दी। इससे संजय अग्रवाल के कंधे और हाथ के पास गोली लगी है, जिसे गंभीर अवस्था में एक निजी हास्पिटल में भर्ती कराया गया, जहां उसकी मौत हो गई। पुलिस ने हमलावर को गिरफ्तार कर लिया है, जिससे हमले की वजह के बारे में पूछताछ की जा रही है।
घटना के संबंध में मिली जानकारी के अनुसार पचपेढ़ी नाका में संजय अग्रवाल की श्री सांई मोटर्स के नाम से ऑफिस है। बताया जा रहा है कि रोज की तरह संजय अग्रवाल आज भी दोपहर में अपने ऑफिस पहुंचा। ऑफिस में बैठे संजय को कुछ समय ही हुआ था कि एक युवक बाइक सवार युवक उसके ऑफिस पहुंचा और कुछ देर बातचीत करने के बाद अपने पास रखी रायफल से उस पर फायरिंग कर दी। आरोपी ने संजय पर दो फायर किया जिसमें एक गोली संजय के कंधे और दूसरी गोली उसके बाह में लगी। इधर घटना की सूचना पर पुलिस तत्काल मौके पर पहुंची और फायरिंग करने वाले आरोपी को गिफ्तार कर घायल संजय अग्रवाल को रामकृष्ण अस्पताल में भर्ती कराया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। ऐसी खबर है कि आरोपी आरक्षक है और उसने अपनी सर्विस रायफल से वारदात को अंजाम दिया। हालांकि अभी तक हमले की वजह का पता नहीं चल पाया है। पुलिस आरोपी से पूछताछ कर रही है।

पूर्व प्रेमिका रही कॉलेज की छात्रा को घर लाकर परिजनों के बीच किया अनाचार, प्रेमी सहित अन्य 2 आरोपी गिरफ्तार

बालोद: समाज को झिंझोड़ देने वाली और शर्मसार कर देने वाली घटना सामने आई हैं। तीन युवकों ने पहले कॉलेज की एक छात्रा को उठा अपने घर लाए और परिजनों के बीच कमरा बंद कर अनाचार किया। यह घटना बालोद जिले के गुंडरदेही थाना अंतर्गत ग्राम कचांदुर की हैं। जहां तीन युवकों ने राजनांदगांव कॉलेज की छात्रा को अपने घर कचांदुर लेकर अनाचार किया। छात्रा की शिकायत पर गुंडरदेही पुलिस ने धारा 342, 376, 365 के तहत अपराध पंजीबद्ध कर तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया हैं।





गुंडरदेही थाना प्रभारी रोहित मालेकर से मिली जानकारी अनुसार 20 मार्च को कचांदुर निवासी चुकेश्वर गायकवाड़ पिता झाड़ूराम गायकवाड़ (22वर्ष), छत्रपाल साहू पिता सीता राम साहू (26वर्ष), और बुंदेलाल बघेल पिता झाड़ूराम बघेल (31वर्ष) ने राजनांदगांव कॉलेज की छात्रा को अपने साथ अपने गृह ग्राम कचांदुर के घर ले आए। जहां मुख्य आरोपी चुकेश्वर गायकवाड़ ने अपने परिजनों के बीच कमरा बंद कर छात्रा के साथ अनाचार किया। श्री मालेकर ने आगे बताया कि पीड़ित छात्रा मुख्य आरोपी चुकेश्वर की पूर्व प्रेमिका थी। पकड़े गए तीनो आरोपियों में चुकेश्वर गायकवाड़ मुख्य एवं छत्रपाल साहू व बुन्देलाल बघेल सह अभियुक्त हैं। उक्त तीनों आरोपियों को जेल भेज दिया गया हैं।

दोस्ती कर पहले फिल्म दिखाई, फिर कोल्ड ड्रिंक पिला कर दी हत्या

नई दिल्ली: पूर्वी दिल्ली में एक प्राइवेट स्कूल की 9वीं की छात्रा को 12 वीं के छात्र ने थोड़ी से कहासुनी को लेकर मौत के घाट उतार दिया। बताया जा रहा है कि ट्यूशन क्लास में दोनों में मामूली बात को लेकर झगड़ा हो गया था। आरोपी छात्र ने हत्या को इसलिए अंजाम दिया क्योंकि उसके मन में ट्यूशन क्लास में हुई कहासुनी की बात कई दिनों से चुभ रही थी। पुलिस के मुताबिक, हत्या आरोपी छात्र की पहचान लडक़ी से ट्यूशन क्लास में हुई थी।
उनकी ट्यूशन में किसी बात को लेकर कहासुनी हुई थी। इसके कुछ दिन बाद वो एक दूसरे के संपर्क में आ गए थे। दोनों के बीच दोस्ती हुई। लेकिन यह दोस्ती लडक़े ने उस बात का बदला लेने के लिए की थी, जो उसे कहासुनी के दौरान दिल में चुभ गई थी। इसके बाद आरोपी छात्र शनिवार को लडक़ी को फिल्म दिखाने के बहाने ले गया। फिर शाम को वेलकम मेट्रो स्टेशन के नजदीक अंडर कंस्ट्रक्शन बिल्डिंग में गए। आरोपी ने कोल्डड्रिंक में नशीला पदार्थ मिलाकर लडक़ी को पिलाया। फिर लडक़ी को मार डाला।
देर शाम तक लडक़ी घर नहीं लौटी तो घरवाले पुलिस के पास पहुंचे। मोबाइल कॉल डिटेल खंगालने के बाद पुलिस आरोपी तक पहुंच गई। पूछताछ में लडक़े ने अपना गुनाह कबूल कर लिया। हालांकि, लडक़ी के परिवार वालों का कहना है कि फिरौती के लिए लडक़ी की हत्या की गई। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

दो नाबालिग बच्चों को बंधक बनाकर घर में व्यापारी करवा रहे थे काम, प्रशासन ने छुड़ाया

भिलाई: चाइल्ड लाइन, बचपन बचाओ आंदोलन, महिला एवं बाल विकास और पुलिस की संयुक्त टीम ने दो बच्चों को रेस्क्यू किया है। इन दोनों बच्चों को भिलाई नेहरू नगर के दो व्यापारियों के घर से छुड़ाया गया है। दोनों बच्चों से मनमाने काम लेते थे। साथ ही इन्हें बंधक बनाकर रखे हुए थे। शहर के दो व्यापारी के घर के साथ ही कारखाने में भी दो साल से काम ले रहे थे। इन बच्चों के माता-पिता बेगुसराय में ही रहते हैं। शुक्रवार को चाइल्ड लाइन, बचपन बचाओ आंदोलन, महिला एवं बाल विकास और पुलिस की संयुक्त टीम ने इन बच्चों का रेस्क्यू किया। जानकारी के मुताबिक, चाइल्ड लाइन की हेल्पलाइन पर किसी अज्ञात व्यक्ति ने फोन कर सूचना दी कि बिहार के बेगुसराय से भिलाई लाकर दो बालकों को नेहरू नगर में रहने वाले संजीव शर्मा और संतोष शर्मा ने बंधक बनाकर रखा है। बताया जाता है कि संजीव और संतोष दोनों का ही अलग-अलग लोहे का कारखाना है। दोनों के खिलाफ बाल श्रम अधिनियम 1986 की धारा 3 एवं किशोर न्याय अधिनियम 2015 की धारा 79 के तहत अपराध भी दर्ज किया गया है। लोहा व्यापारी संजीव शर्मा और संतोष शर्मा करीब दो साल पहले बिहार के बेगुसराय से बच्चों को भिलाई लेकर आए थे। वह उनके माता-पिता से भिलाई में उन्हें शिक्षा दिलाने की बात कहकर लाए थे। भिलाई लाकर उन्होंने बच्चों को घर के अलावा कारखाने में भी काम कराना शुरू कर दिया। इसके बदले में वह बच्चों को दो वक्त का खाना और दो हजार रुपए महीना देते थे। शुक्रवार को बच्चों को संजीव शर्मा और संतोष शर्मा के चंगुल से मुक्त कराने के बाद चाइल्ड वेलफेयर सोसायटी लाया गया। यहां बच्चों की काउंसिलिंग की गई। दोनों बच्चों ने बताया कि उनसे सुबह से रात तक काम लिया जाता था। सुबह उठकर घर में झाड़ू-पोछा करने के बाद उन्हें कारखाने भेज दिया जाता था। यहां उनसे दिनभर काम लिया जाता था। गलती हो जाने पर पिटाई भी की जाती थी।

चोरी की आरोपी महिला को भीड़ ने पीट पीटकर मार डाला

नई दिल्ली : प्रेशर कुकर बनाने वाली फैक्ट्री में चोरी करने के आरोप में लोगों ने एक महिला की पीटकर हत्या कर दी। पुलिस ने कहा कि पिटाई के बाद आरोपी शबीना की तबियत बिगड़ गई और उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उसकी मौत हो गई। यह घटना समयपुर बादली की है। हालांकि कुछ परिजनों ने एक सब इंस्पेक्टर पर महिला की पीटकर हत्या करने और रिश्वत मांगने का आरोप लगाया है। पुलिस अधिकारियों ने इन आरोपों को खारिज कर दिया है। इस मामले में मजिस्ट्रेट से जांच के आदेश दिए गए हैं।
पुलिस ने बताया कि शबीना (38) भलस्वा डेयरी इलाके में रहती थी। वह कूड़ा बीनने का काम करती थी। बुधवार सुबह वह अपने साथ पांच अन्य महिलाओं को लेकर फैक्ट्री में घुसी। फैक्ट्री में लोगों ने दो महिलाओं को चोरी करने के शक में दबोच लिया और उनकी पिटाई कर दी। इस दौरान अन्य महिलाएं वहां से फरार हो गईं। दूसरी महिला की पहचान अफसाना के रूप में हुई।
जानकारी मिलने के बाद पुलिस ने दोनों महिलाओं को गिरफ्तार कर लिया और बाद में उसे अदालत में पेश किया। अफसाना को कोर्ट ने न्यायिक हिरासत में भेज दिया। वहीं, पुलिस शबीना को दो दिन के रिमांड पर लेकर पूछताछ करने के लिए थाने लेकर आई।
डीसीपी गौरव शर्मा ने कहा कि दोपहर में शबीना की छाती में दर्द होने लगा। पुलिस ने उसे आंबेडकर अस्पताल में भर्ती कराया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने घटना की जानकारी शबीना के परिवार वालों को दी। सूचना मिलने के बाद काफी संख्या में लोगों ने थाने पहुंचकर हंगामा शुरू कर दिया।
शबीना के बेटे अरविंद के मुताबिक पुलिस ने उसे कहा कि स्थानीय लोगों ने उसकी मां की पिटाई की है। लेकिन मेरे कुछ परिवारवालों ने कहा कि पुलिस ने पिटाई की है। परिवार वालों ने थाने में तैनात एक सब इंस्पेक्टर पर 45 हजार रुपये लेकर शबीना को छोडऩे की बात कहने का आरोप लगाया।