जियो ने बनाया एक और रिकॉर्ड, जापान और नीदरलैंड को भी पछाड़ा

नई दिल्ली : दुनिया में किसी भी अन्य ऑपरेटर ने 4 जी उपलब्धता के मामले में भारत में रिलायंस जियो की तुलना में अपने-अपने देश के स्तर पर बेहतर प्रदर्शन नहीं किया है। लंदन स्थित मोबाइल एनालिटिक्स कंपनी ओपनसिग्नल की एक नई रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है।
मोबाइल नेटवर्क एक्सपीरियंस रिपोर्ट में कहा गया है कि जियो का स्कोर एक फीसदी बढक़र 97.5 फीसदी तक पहुंच गया, जो लगभग छह महीने पहले 96.7 फीसदी था। रिपोर्ट में कहा गया, जियो का 97.5 फीसदी का 4जी उपलब्धता स्कोर सर्वाधिक है, जिसे हमने अपनी किसी भी रिपोर्ट में देश के स्तर पर दर्ज किया है। जियो की इतने कम समय में 97.5 फीसदी 4जी उपलब्धता तक पहुंचने की उपलब्धि वास्तव में आश्चर्यजनक है।
ओपनसिग्नल ने कहा कि अमेरिका में दो ऑपरेटरों ने 90 फीसदी से अधिक स्कोर हासिल किया है, जबकि ताइवान में चार ऑपरेटर इस निशान से ऊपर हैं, लेकिन अभी तक किसी भी बाजार में किसी ने भी 95 फीसदी से ऊपर का स्कोर हासिल नहीं किया था। रिपोर्ट में आगे कहा गया कि यहां तक कि यूरोप के सबसे विकसित मोबाइल बाजार माने जानेवाले नीदरलैंड में केवल एक ऑपरेटर ने 95 फीसदी का निशान पार किया है, और जापान में दो ऑपरेटरों ने इस बेंचमार्क को प्राप्त किया है।
हालांकि, अध्ययन से पता चला है कि भारती एयरटेल ने 4जी उपलब्धता में सबसे बड़ी वृद्धि हासिल की है क्योंकि इसका स्कोर 10 फीसदी से अधिक बढक़र 85 फीसदी से अधिक हो गया है।

अब व्हाट्सऐप से यूजर्स 30 ऑडियो फाइल को एक साथ भेज सकेंगे

सैन फ्रांसिस्को: फेसबुक के अधिग्रहण वाले फोटो मैसेंजिंग ऐप व्हाट्सऐप ने नए यूजर इंटरफेस (यूआई) के साथ ऑडियो पिकर पेश किया है जिससे यूजर को एक बार में 30 ऑडियो फाइल्स भेजने की सुविधा मिलेगी। वेबईटीएइंफो ने इसी सप्ताह बताया, व्हाट्सऐप ने हाल ही में ऑडियो पिकर पेश किया है। इससे ऑडियो को सेंड करने से पहले प्ले करने तथा एक से ज्यादा ऑडियो फाइल्स भेजने की सुविधा प्रदान करता है। इससे पहले, यूजर्स एक बार में सिर्फ एक ऑडियो फाइल भेज सकते थे।
नया फीचर व्हाट्सऐप के 2.19.89 बीटा अपडेट में आया है। इसके बाद व्हाट्सऐप ने अपने प्लेटफॉर्म पर कई अपडेट्स, विशेष रूप से ज्यादा डिवाइसेज पर संबंधित एप सपोर्ट करना और प्लेटफॉर्म पर फर्जी सूचनाएं फैलने की जांच करने के फीचर पेश किए हैं। यह एप बहुप्रतीक्षित आईपैड सपोर्ट पर पहले से ही काम कर रहा है जिसका टच आईडी सपोर्ट, स्प्लिट-स्क्रीन और लैंडस्केप मोड जैसे फीचर्स पर परीक्षण हो रहा है।
अपने प्लेटफॉर्म पर फर्जी खबरों के फैलने की घटनाओं को कम करने के लिए व्हाट्सऐप फॉरवार्डिग इंफो और फ्रीच्ेंट्ली फॉरवार्डेड मैसेज नामक दो फीचर्स का परीक्षण कर रहा है। इससे यूजर्स को पता चल जाया करेगा कि यह मैसेज कितनी बार भेजा जा चुका है। कोई मैसेज चार बार से ज्यादा बार भेजने के बाद वह फ्रीच्ेंट्ली फॉरवार्डेड मैसेज हो जाता है। व्हाट्सऐप पर भारत में फिलहाल कोई मैसेज अधिकतम पांच बार फॉरवार्ड किया जा सकता है।

कुछ स्मार्टफोन पर सपोर्ट करना बंद कर देगी फेसबुक और अन्य एप

नई दिल्ली: अप्रैल के बाद से फेसबुक कुछ स्मार्टफोन्स पर काम करना बंद कर देगी. जी हां, कई विंडोज फोन पर फेसबुक और उसके अन्य एप का सपोर्ट नहीं मिलेगा. माइक्रोसॉफ्ट के प्रवक्ता ने इसकी पुष्टि की है.

उन्होंने बताया कि फेसबुक अपने एप फेसबुक, इंस्टाग्राम और मैसेंजर का सपोर्ट इस महीने के अंत तक विंडोज फोन के लिए खत्म कर रही है. लेकिन बता दें विंडोज यूजर्स के पास दूसा विकल्प भी है अगर वह चाहे तो थर्ड पार्टी एप की सहायता से ये सभी सर्विस इस्तेमाल कर पाएंगे.

फेसबुक द्वारा इन सेवाओं को बंद करने की सबसे पहले जानकारी इनगैजेट ने रिपोर्ट की थी. इससे पहले व्हाट्सएप का सपोर्ट भी विंडोज के कई फोन से हटा लिया गया है. हालांकि विंडोज 8.1 और विंडोज 10 पर अभी भी व्हाट्सएप सपोर्ट मिलता है. कंपनी ने व्हाट्सएप सपोर्ट के बारे में अभी कोई जानकारी नहीं दी है.

सैमसंग भारत में टीवी के लिए फिर से प्लांट नहीं लगाएगी

कोलकाता : सरकार की ओर से भारत में टेलिविजन प्रॉडक्शन दोबारा शुरू करने के भारी दबाव के बीच सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स ने देश के दो प्रमुख कॉन्ट्रैक्ट मैन्युफैक्चरर ने इस संबंध में बातचीत शुरू कर दी है। मामले से वाकिफ लोगों ने बताया कि सैमसंग 42-इंच के टीवी मॉडल के प्रॉडक्शन को शुरू करने के लिए फॉक्सकॉन और डिक्सन टेक्नोलॉजीज से बात कर रही है। देश में बिकने वाले आधे से ज्यादा टेलीविजन 42 इंच के होते हैं। इंडस्ट्री के दो सीनियर एग्जिक्यूटिव्स ने बताया कि टेलिविजन बिजनस में घटते मार्जिन और प्राइस वॉर को देखते हुए सैमसंग फिर से भारत में टेलिविजन प्लांट पर निवेश नहीं करना चाहती।
सरकार ने सैमसंग से कहा था कि अगर वह दोबारा भारत में टेलीविजन प्रॉडक्शन शुरू करती है तो ओपन सेल टीवी पैनल पर लगने वाले ड्यूटी को 5 पर्सेंट से घटाकर जीरो कर दिया जाएगा। केंद्र ने पिछले साल के बजट में ओपन सेल पैनल पर 5 पर्सेंट ड्यूटी लगाने का ऐलान किया था, जिसके बाद कोरियाई कंपनी ने चेन्नई स्थित अपने प्लांट में टेलिविजन का प्रॉडक्शन बंद कर दिया था। अक्टूबर 2018 से सैमसंग वियतनाम से टेलिविजन इंपोर्ट कर रही है। वियतनाम से फ्री ट्रेड एग्रीमेंट (एफटीए) के जरिए भारत में सामान आता है, जिस पर जीरो ड्यूटी लगती है।
भारत में सैमसंग सबसे बड़ी टीवी कंपनी है। एग्जिक्यूटिव्स ने बताया कि वह कॉन्ट्रैक्ट मैन्युफैक्चरर के जरिए 24, 32 और 42 इंच के टीवी मॉडल को भारत में मैन्युफैक्चरर करना चाहती है और बाकी के मॉडल वियतनाम से इंपोर्ट करती रहेगी।
टेलिविजन सेट की कुल लागत का 65 से 70 पर्सेंट हिस्सा ओपन सेल एलईडी टीवी पैनल का होता है। अभी भारत में इसका प्रॉडक्शन नहीं होता। इंडस्ट्री का कहना है कि ओपन सेल एलईडी पैनल का प्रॉडक्शन शुरू होने में करीब 4 साल का समय लग सकता है। एक एग्जिक्यूटिव ने बताया, सैमसंग भारत में टीवी मैन्युफैक्चरिंग में फिर से निवेश नहीं करना चाहती। इस बिजनस में भी स्मार्टफोन की तरह कीमतों की तेज जंग चल रही है। ऐसे में कंपनी ने कॉन्ट्रैक्ट मैन्युफैक्चरर्स से प्रॉडक्शन के लिए संपर्क किया है।
सैमसंग के भारत से टीवी प्रॉडक्शन प्लांट को बंद कर वियतनाम ले जाने के फैसले को केंद्र सरकार के मेक इन इंडिया के लिए बड़ा झटका माना गया था। ऐसे में इलेक्ट्रॉनिक और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय लगातार सैमसंग के संपर्क में है, जिससे भारत में कंपनी के टीवी प्रॉडक्शन को दोबारा शुरू करना सुनिश्चित कराया जा सके।
एग्जिक्यूटिव ने बताया, सैमसंग के टीवी प्रॉडक्शन दोबारा शुरू करने के वादे पर भारत सरकार ओपन सेल टीवी पैनल से ड्यूटी हटाने को तैयार है। सैमसंग इंडिया ने फॉक्सकॉन और डिक्सन को अपना प्रपोजल दे दिया है। डिक्सन, सैमसंग के लिए सेमी-ऑटोमेटिक वॉशिंग मशीन की कॉन्ट्रैक्ट मैन्युफैक्चरिंग करती है।

सैमसंग ने गैलेक्सी एम-30 स्मार्टफोन लांच किया

नई दिल्ली: सैमसंग इंडिया ने गैलेक्सी एम सीरीज का नवीनतम स्मार्टफोन एम-30 लांच किया। नए फोन की कीमत 14,990 रुपये से शुरू होती है। सैमसंग के नए स्मार्टफोन सात मार्च से अमेजन और सैमसंग डॉट कॉम पर उपलब्ध होंगे।
कंपनी ने कहा कि एम-30 सीरीज में 6जीबी प्लस 128 जीबी वाला फोन 17,990 रुपये और 4जीबी प्लस 64जीबी वाला फोन 14,990 रुपये में उपलब्ध होंगे। सैमसंग इंडिया के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट असिम वारसी ने कहा, गैलेक्सी एम-30 नए युग के युवा उपभोक्ताओं के लिए है जो हर दृष्टि अपने स्मार्टफोन से शक्ति की बुलंदियों को पाना चाहते हैं।
फोन में 6.4 इंच का एफएचडी प्लस डिवाइस स्पोर्ट्स 16 एमपी (मेगाफिक्सल) फ्रंट कैमरा और ट्रिपल रियर कैमरें हैं, जो क्रमश: 13एमपी, 5एमपी और 5एमपी के हैं। इसमें 5,000 एमएएच की बैटरी है। फोन डेडीकेटेड स्टोरेज स्लॉट से लैस है जिसे 512 जीबी तक बढ़ाया जा सकता है। सैमसंग ने पिछले महीने गैलेक्सी एम-10 और एम-20 लांच किए थे।

एलजी ने अपना पहला 5जी स्मार्टफोन पेश किया

बार्सिलोना: एलजी इलेक्ट्रॉनिक्स ने सोमवार को वी और जी सीरीज पेश करते हुए अपने प्रमुख स्मार्टफोन्स वी50 थिन 5जी और जी8 थिनक्यू पेश किए। जहां वी50 थिन 5जी डुअल स्क्रीन के साथ 5जी इनेबल है वहीं जी8 थिनक्यू दुनिया के पहले हैंड आईडी फीचर से लैस है। इसके तहत फोन यूजर के हाथ की हथेलियों को स्कैन कर सत्यापित करता है। इन डिवाइसेज का अनावरण रविवार को बर्सिलोना में मोबाइल वर्ल्ड कांग्रेस (एमडब्ल्यूसी) में हुआ।
कंपनी ने एक बयान में कहा, वी50 थिनक्यू 5जी में डुअल स्क्रीन है जिसे कवर केस से मिलता-जुलता डिजायन दिया गया है जो यूजर को डबल व्यूइंग, गेम खेलने और मल्टीटास्किंग एक्सपीरिएंस देने के लिए 6.2 इंच की ओएलईडी डिस्प्ले प्रदान करता है। एंड्रोएड 9.0 पाई पर चलते हैं और ये ट्रिपल रियर कैमरा सेटअप के साथ पेश दोनों स्मार्टफोन्स नवीनतम च्ैल्कम स्नैपड्रैगन 855 चिपसेट से लैस हैं।
5जी सुविधा से लैस स्मार्टफोन में 6.4 इंच की क्यूएचडी प्लस ओएलईडी फुल विजन डिस्प्ले है, फ्रंट और रियर कैमरों में चलते सब्जेक्ट्स पर कैमरा का सुनिश्चित करने के लिए वीडियो डेप्थ कंट्रॉल फीचर दिया गया है। यह स्मार्टफोन 4,000 एमएएच बैटरी से लैस है और 5जी के लिए जरूरी उन्नत प्रोसेसिंग पॉवर देने के लिए इसमें स्नैपड्रेगन एक्स50 5जी दिया गया है।
अपना पहला 5जी फोन लाने के लिए एलजी ने अमेरिका, दक्षिण कोरिया और ऑस्ट्रेलिया सहित ऐसे 10 प्रमुख बाजारों से साझेदारी की है जहां इस वर्ष 5जी सर्विस लांच होने वाला है। जी8 थिनक्यू में एलजी ने हाथ की नसों से सत्यापित होने वाला लॉक सिस्टम लांच किया है जो अपने उपयोगकर्ता को उनके हाथों की नसों के आकार, मोटाई और अन्य व्यक्तिगत लक्षणों से पहचानती है।
कंपनी ने आगे कहा, यह जेड कैमरा प्रौद्योगिकी और इंफ्रारेड सेंसर्स के संयोजन से संभव हुआ है। यह फिंगरप्रिंट प्रौद्योगिकी से ज्यादा सुरक्षित है। 6.1 इंच क्यूएचडी प्लस ओएलईडी फुल विजन डिस्प्ले वाला स्मार्टफोन छह जीबी रैम और 128 जीबी इंटरनल मैमोरी के साथ आया है और इसमें 3,500 एमएएच बैटरी दी गई है। इसमें फेस अनलॉक और फिंगरप्रिंट सैंसर जैसे अतिरिक्त फीचर भी दिए गए हैं। इन स्मार्टफोन्स की कीमत और बाजार में उपलब्धता के बारे में फिलहाल कोई जानकारी नहीं दी गई है।

फेसबुक ब्लॉकचेन-आधारित प्रमाणीकरण की इच्छुक : जकरबर्ग

सैन फ्रांसिस्को: आप जल्द ही फेसबुक में ब्लॉकचेन-आधारित प्रमाणीकरण से लॉग इन कर सकते हैं। कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मार्क जकरबर्ग ने यह संकेत दिया है। जकबर्ग ने कहा कि वे फेसबुक लॉग इन को ब्लॉकचेन प्रौद्योगिकी के माध्यम से करने के इच्छुक हैं।
जकरबर्ग ने जिट्टरेन से कहा, मैं वापस विकेंद्रीकरण या ब्लॉकचेन प्रमाणीकरण के बारे में सोच रहा हूं। हालांकि मैं इसे लागू करने का तरीका पूरी तरह से विकसित नहीं कर पाया हूं, लेकिन मूल रूप से आपकी जानकारी और विभिन्न सेवाओं तक पहुंच प्रदान कर रहा है।
उनके मुताबिक, ब्लॉकचेन यूजर्स को अधिक शक्ति प्रदान करेगा, जब वे थर्ड-पार्टी के जेटा एक्सेस की अनुमति देंगे। फेसबुक ने पिछले साल अपने एक वरिष्ठ इंजीनियर इवान चेन को पदोन्नत कर अपने हाल में लांच ब्लॉकचेन खंड का इंजीनियरिंग निदेशक नियुक्त किया था।
इससे पहले मई में फेसबुक ने कंपनी के भीतर ब्लॉकचेन प्रौद्योगिकी में संभावना तलाशने के लिए एक समूह का गठन किया था जिसका प्रमुख मैसेंजर के प्रमुख डेविड मारकौस को नियुक्त किया गया था। मीडिया रिपोर्ट्स में यह भी कहा गया कि फेसबुक खुद का क्रिप्टोकरेंसी विकसित कर रहा है। फेसबुक के दुनिया भर में 2.3 अरब यूजर्स हैं और क्रिप्टोकरेंसी लांच करने से वे बिटकॉयन जैसे वर्चुअल करेंसी में भुगतान कर सकेंगे।

गूगल ने एप्पल को 2018 में 9.5 अरब डॉलर का भुगतान किया

सैन फ्रांसिस्को : आईओएस डिवाइसों में खुद को डिफाल्ट सर्च इंजन बनाए रखने के लिए गूगल ने एप्पल को ट्रैफिक अधिग्रहण लागत (टीएसी) के रूप में साल 2018 में कुल 9.5 अरब डॉलर का भुगतान किया, जिसने आईफोन निर्माता के सेवाओं से प्राप्त राजस्व में महत्वपूर्ण योगदान किया। गोल्डमैन सैक्स ने यह अनुमान लगाया है।
एप्पल चीन जैसे उभरते बाजारों में आईफोन की बिक्री में गिरावट कारण सेवाओं से प्राप्त राजस्व पर ध्यान दे रहा है। रिपोर्ट के मुताबिक, गूगल ने एप्पल को टीएसी के रूप में जो भुगतान किया और वह इस खंड में एप्पल के मुनाफे का एक तिहाई है।
गोल्डमैन सैक्स ने चेतावनी दी है कि गूगल द्वारा भुगतान किया गया शुल्क 2019 में भी एप्पल के सेवाओं के राजस्व में बड़ी भूमिका निभाएगी, लेकिन इसकी वृद्धि दर कम होगी। फर्म ने सलाह दी है कि अगर एप्पल को सेवा खंड में राजस्व को बढ़ावा देना है तो उसे गूगल को योगदान पर कम निर्भर रहना होगा। गूगल एप्पल जैसे डिवाइस निर्माताओं को टीएसी का भुगतान डिफॉल्ट सर्च इंजन बने रहने के लिए करती है।

गूगल ने डूडल के जरिये कैफीन का अविष्कार करने वाले वैज्ञानिक को किया याद

गूगल अक्सर किसी खास दिन को अपने डूडल के जरिए याद करता है. आज गूगल ने अपने डूडल को जर्मन एनालिटिकल कैमिस्ट Friedlieb Ferdinand Runge को समर्पित किया है. गूगल अपने डूडल के जरिए उनका 225वां बर्थडे मना रहा है. गूगल ने इसके लिए एक आकर्षक डूडल को तैयार किया है. इस डूडल में Ferdinand को कॉफी का कप पकड़े देखा जा सकता है. इस कॉफी को पीते हुए दिख रहे हैं और इसके बाद उनके एक्सप्रेशन को भी देखा जा सकता है. उनके बगल में एक बिल्ली भी बैठी दिखाई दे रही है.

Friedlieb को बचपन से ही कैमिस्ट्री की तरफ दिलचस्पी थी और उन्होंने इस दौरान कई प्रयोग भी किए. Friedlieb वहीं वैज्ञानिक थे जिन्होंने कैफीन की खोज की थी. कैफीन एक कड़वा पदार्थ होता है, जो एक साइकोएक्टिव (मस्तिष्क को प्रभावित करने वाला) ड्रग है. 1819 में रंज ने इसकी खोज की और इसे कैफीन नाम दिया. इसके लिए जर्मन शब्द Kaffee था, जो कैफीन बन गया.

इनका जन्म जर्मनी में 8 फरवरी 1794 को हुआ था. बचपन में ही उन्होंने एक बार बेल्डोना पौधे के रस से कोई प्रयोग शुरू किया, लेकिन इस रस की कुछ बूंदें उनकी आंखों में चली गई थी. उन्होंने अपनी डॉक्टरेट यूनिवर्सिटी ऑफ बर्लिन से पूरी की. इसके अलावा उन्होंने कोल तार डाई की भी खोज की जिसका इस्तेमाल कपड़ो को डाई के लिए किया जाता है.

गूगल असिस्टेंट का इंटरप्रेटर मोड अब होम स्पीकर्स, अन्य डिवाइसों पर उपलब्ध

सैन फ्रांसिस्को : गूगल ने अपने असिस्टेंट के इंटरप्रेटर मोड का होम स्पीकर्स और अन्य थर्ड-पार्टी डिवाइसेज के लिए विस्तार किया है। इंटरप्रेटर मोड यूजर्स की संगत डिवाइसों के साथ रियल-टाइम बातचीत में मदद करता है और उनके लिए दुभाषिया का काम करता है।
कंपनी ने एक ब्लॉग पोस्ट में लिखा, अब आप अंग्रेजी, फ्रेंच, जर्मन, इटालियन, जापानी और स्पैनिश में इंटरप्रेटर मोड को शुरू कर सकते हैं। आप गूगल असिस्टेंट को और अधिक भाषाओं में अनुवाद करने के लिए कह सकते हैं। यह फीचर 26 अंतर्राष्ट्रीय भाषाओं को सपोर्ट करता है, जिसमें हिन्दी, अरबी, कोरियाई और पोर्टगुइज भाषाएं भी शामिल हैं।
यूजर्स को इस फीचर को ऑन करने के लिए असिस्टेंट को कहना होगा -टर्न ऑन इंटरप्रेटर मोड, ताकि संगत डिवाइसों पर यह फीचर शुरू हो सके और उसके बाद भाषा का चयन करना होगा। पोस्ट में कहा गया है, जब आपको टोन सुनाई देगा, दोनों में से किसी भी भाषा में बातचीत शुरू कर सकते हैं। स्मार्ट डिस्प्ले पर इंटरप्रेटर मोड में यूजर्स को अनुवादित भाषा को सुनने और देखने दोनों का मौका मिलेगा। इंटरप्रेटर मोड को बंद करने के लिए उन्हें बांए से दाएं स्वाइप करना होगा।
गूगल ने इस फीचर का सबसे पहले प्रदर्शन इस साल जनवरी में लास वेगस में कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स शो (सीईएस) में किया था। यह मोड सबसे पहले गूगल होम हब में आया और उम्मीद है कि अगले कुछ महीनों में यह और अधिक थर्ड-पार्टी डिवाइसों के लिए जारी किया जाएगा, जिसमें लेनोवो, एलजी और जेबीएल के डिवाइसेज शामिल हैं।